दस्तार के लिए एक अमेरिकी सिख सैनिक का संघर्ष

By: | Last Updated: Tuesday, 23 July 2013 8:29 AM
दस्तार के लिए एक अमेरिकी सिख सैनिक का संघर्ष

<p style=”text-align: justify;”>
<b></b>
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
<b>वाशिंगटन: </b>यदि कनाडा,
इंग्लैंड, भारत और प्रगतिशील
राष्ट्रों में सिखों को
दस्तार तथा दाढ़ी के साथ सेना
में काम करने की अनुमति दी जा
सकती है तो अमेरिका में क्यों
नहीं?
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
यह सवाल वर्ष 2009 में मनोज
कमलजीत सिंह कलसी ने अपने
कमांडरों से पूछा था. तब उनसे
कहा गया था कि सेवा में रहते
हुए उन्हें इसकी अनुमति नहीं
दी जा सकती. लेकिन बाद में वह
अपने धार्मिक विश्वास की
चीजें अपने साथ रखने की
अनुमति देने के लिए अपने
कमांडरों को मनाने में सफल
रहे और यह अनुमति हासिल करने
वाले पहले अमेरिकी सिख सैनिक
बने.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
कलसी ने नॉर्थ कैरोलिना के
फोट ब्रैग से आईएएनएस को फोन
पर बताया कि वह आठ साल पहले जब
अमेरिकी सेना में नियुक्त
हुए थे तो उन्होंने इस बारे
में नियोक्ताओं से बात की थी,
जिन्होंने उनसे कहा था कि यह
कोई बड़ा मुद्दा नहीं है.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
बहरहाल, वर्ष 2010 में उन्हें
इसकी अनुमति मिल गई. इसके बाद
दो अन्य सिख सैनिकों कैप्टन
तेजदीप सिंह रतन और सिमरन
प्रीत सिंह लांबा को भी यह
छूट मिली, जो सेना की
चिकित्सा सेवा विभाग में
कार्यरत थे.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
कलसी के मुताबिक, यह अनुमति
देने से पहले सेना ने तीन
सवाल उठाए थे. पहला, क्या वह
दस्तार पहनने के बाद गैस
मास्क पहन सकेंगे? दूसरा,
क्या वह हेल्मेट पहन सकेंगे
और तीसरा, क्या इससे जवानों
के बीच आपसी एकता पर असर
पड़ेगा? कलसी ने कहा कि
उन्होंने सेना की सभी
चिंताओं को दूर किया.
उन्होंने दस्तार के ऊपर से
गैस मास्क व हेल्मेट पहना और
उन्हें अपने साथी जवानों से
भी इस मुद्दे पर कोई समस्या
नहीं पेश आई.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
अमेरिकी सेना, पुलिस तथा
अग्निशमन सेवाओं में अधिक से
अधिक सिखों की भर्ती पर जोर
देते हुए उन्होंने यह भी कहा
कि यदि ऐसा होता तो पांच
अगस्त, 2012 को ओक क्रीक में
गुरुद्वारे पर हुए नस्लीय
हमले को रोका जा सकता था,
जिसमें छह सिख श्रद्धालुओं
की मौत हो गई थी.<br />
</p>

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: दस्तार के लिए एक अमेरिकी सिख सैनिक का संघर्ष
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017