दुनिया के सबसे विवादित ‘सेक्स फर्नीचर !’

By: | Last Updated: Friday, 24 January 2014 12:20 PM
दुनिया के सबसे विवादित ‘सेक्स फर्नीचर !’

लंदन: प्रिंसटाइन की व्हाइट शर्ट और जीन्स में सजी एक अरबपति फुटबाल क्लब के मालिक की खूबसूरत गर्लफ्रेंड सोशलाइट डाशा झुकोवा अपने फोटोसेशन के लिए सज संवरकर तैयार हुई. वो चाहती थी कि इस फोटो सेशन से उसकी छवि एक सोफिस्टीकेटेड आर्ट एक्सपर्ट की बने. क्योंकि ये तस्वीर एक अपमार्केट फैशन ब्लॉग में उसके इंटरव्यू के साथ पब्लिश होनी थी.

 

लेकिन हो गया कुछ और, मुमकिन है कि डाशा का मकसद किसी का अपमान करना नहीं रहा हो, लेकिन जो भी हो, उसके फोटो सेशन में एक गंभीर चूक हो गई, जिससे सारा मामला तिल का ताड़ बन गया. दरअसल फोटो सेशन के दौरान डाशा ने बैठने के लिए जिस सोफे का इस्तेमाल किया उससे सारी गड़बड़ हो गई. डाशा का सोफा पीठ के बल लेटी एक अर्धनग्न अश्वेत महिला के पुतले से बना था, जिसने अपनी टांगें हवा में उठा रखीं थीं.

इससे भी बुरा ये हुआ कि डाशा की ये तस्वीर और उनका इंटरव्यू जिस दिन प्रकाशित हुआ वो ‘मार्टिन लूथर डे’ था. फिर क्या था, ‘आर्ट एक्सपर्ट’ के बजाय इस तस्वीर ने डाशा को रंगभेदी और नस्लभेदी बना डाला और विवाद का एक तूफान खड़ा हो गया. डाशा पहले तो कुछ समझ ही नहीं सकी, फिर जब पूरा मामला समझ में आया तो सिर पकड़ के रह गई. इस तस्वीर के जुर्म में उसे न जाने कितनी बार कितने लोगों से माफी मांगनी पड़ी.

 

इस अर्धनग्न फर्नीचर को ब्रिटिश कलाकार एलेन जोन्स ने 1969 में रॉयल कालेज आफ आर्ट में डिजाइन किया था. उन्होंने इसका पूरा सेट बनाया था, जिसमें फाइबर ग्लास की बनी झुकी, बैठी और लेटी अर्धनग्न महिलाओं के पुतले शामिल थे. लेकिन 1970 में जब इस अर्धनग्न फर्नीचर को पहली बार एक प्रदर्शनी में लोगों के सामने रखा गया, तो महिलाओं ने इसका तीखा विरोध किया. क्योंकि एलेन जोन्स ने अपनी डिजाइन में अर्धनग्न महिलाओं को फर्नीचर की तरह पेश किया था.

 

इसके बाद जब एलेन जोन्स ने अपने अर्धनग्न फर्नीचर को लंदन में प्रदर्शित किया तो उनपर और उनके फर्नीचर पर लोगों ने अंडे और टमाटर फेंके. जिस मॉल में इन्हें प्रदर्शित किया गया था, वहां विरोधियों ने हंगामा मचा दिया. गार्जियन अखबार ने इस फर्नीचर का कड़ा विरोध करते हुए लिखा कि जोन्स और उनके इस बेहूदा फर्नीचर को ब्रिटेन में प्रतिबंधित कर देना चाहिए.

 

डाशा झुकोवा की तरह एलेन जोन्स का भी तर्क था कि कला कभी भी आक्रामक नहीं होती और इस अनोखे फर्नीचर के साथ उनका मकसद सेक्सिज्म का विरोध करना है. जोन्स ने एक इंटरव्यू में कहा, “ मैं चेल्सी में रहा हूं और महिलाओं के फिगर और उनसे आने वाले सेक्सुअल चार्ज में मेरी रुचि रही है. अपने शहर में हर शनिवार को किंग्स रोड पर मैं देखता था कि स्कर्ट और छोटी होती चली जा रही है और महिलाएं अपने शरीर की नुमाइश करने के लिए नए-नए तरीके आजमा रही हैं. इन्हीं सेक्सुअल नजारों ने मेरी कला की कल्पनाशीलता को प्रेरित किया.”

 

जैसी कि मशहूर कहावत भी है कि ‘सेक्स सेल्स’, इस अर्धनग्न फर्नीचर ने डिजाइनर एलेन जोन्स को मालामाल कर दिया. उनके बनाए इस सीरिज के सभी फर्नीचर सेट मुंहमांगी कीमत पर धड़ाधड़ बिक गए.  2012 में मशहूर सैचस् आर्ट कलेक्शन में हुई एक नीलामी में एलेन के ये अर्धनग्न फर्नीचर 2.6 मिलियन पौंड में नीलाम हुए थे. एलेन जोन्स कहते हैं, कि उनके फर्नीचर विशुद्ध कलाकृतियां हैं और उनका मकसद किसी का अपमान करना नहीं है.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: दुनिया के सबसे विवादित ‘सेक्स फर्नीचर !’
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017