फुकुशिमा के 2000 कर्मचारियों में कैंसर का खतरा

By: | Last Updated: Saturday, 20 July 2013 5:03 AM
फुकुशिमा के 2000 कर्मचारियों में कैंसर का खतरा

<p style=”text-align: justify;”>
<b>टोक्यो:</b>
जापान में दो साल पहले भूकंप
व सुनामी के कारण
क्षतिग्रस्त हुए फुकुशिमा
परमाणु बिजली संयंत्र के
सफाई अभियान में लगभग 20,000
कर्मचारियों ने हिस्सा लिया
था.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
इनमें से लगभग 10 प्रतिशत
कर्मचारी पर्याप्त रूप से
विकिरण की चपेट में आ गए थे,
जिसके कारण उनमें थायरॉयड
कैंसर का खतरा बढ़ गया है.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
समाचार एजेंसी ईएफई के
अनुसार, संयंत्र का संचालन
करने वाली, टोक्यो
इलेक्ट्रिक पॉवर कंपनी
(टेपको) ने मार्च 2011 में आई
आपदा के बाद फुकुशिमा के
दायची केंद्र में कार्यरत
करीब 19,592 कर्मचारियों का
परीक्षण किया, जिनमें से करीब
1,973 कर्मचारियों में 100
मिलीसिवर्ट विकिरण पाया गया,
जिसे इंटरनेशनल कमीशन ऑन
रेडियोलॉजिकल प्रोटेक्शन,
विकिरण का खतरनाक स्तर मानता
है.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
कंपनी ने प्रारम्भ में कहा था
कि 178 कर्मचारियों में 100
मिलीसिवर्ट विकिरण है.
</p>
<p style=”text-align: justify;”>
टेपको ने गुरुवार को कहा कि
इसने फुकुशिमा के एक संयंत्र
से ‘गैस जैसा भाप’ निकलते देखा
है, लेकिन विकिरण के स्तर में
कोई महत्वपूर्ण परिवर्तन
नहीं देखा गया.<br /><br />फुकुशिमा
परमाणु बिजली संयंत्र को
पूरी तरह नष्ट करने के काम
में इस वक्त करीब 3,500 कर्मचारी
लगे हैं. इस काम में कम से कम 40
साल लगेंगे.<br />
</p>

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: फुकुशिमा के 2000 कर्मचारियों में कैंसर का खतरा
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017