भारतीय ने 81 लाख में खरीदीं बापू की निशानियां

भारतीय ने 81 लाख में खरीदीं बापू की निशानियां

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>लंदन: </b>भारत
में कड़े विरोध के बावजूद
महात्मा गांधी से जुड़ी 29
चीजों को मंगलवार को लंदन में
नीलाम कर दिया गया. जिन चीजों
की नीलामी की गई, उनमें
महात्मा गांधी के खून से सनी
घास, मिट्टी के अलावा उनका
चश्मा और चरखा शामिल हैं.
</p>
<p style="text-align: justify;">
ये सारी चीज़ें कुल मिलाकर एक
लाख पाउंड यानी करीब 81 लाख
रुपये में नीलाम हुईं.
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी
के सामानों की नीलामी
ब्रिटेन के मशहूर ऑक्शन हाउस
मुलॉक्स ने की.
</p>
<p style="text-align: justify;">
बताया जा रहा है कि एक भारतीय
ने फोन पर बोली लगाकर बापू की
धरोहर खरीदी है, हालांकि उसके
नाम का खुलासा नहीं किया गया
है.<br /><br />भारत में समाजसेवी
अन्ना हज़ारे समेत कई
गांधीवादियों ने इस नीलामी
का विरोध किया था और केंद्र
सरकार से मांग की थी कि वो इस
पर रोक लगाने के लिए पहल करे.<br /><br />मशहूर
लेखक गिरिराज किशोर ने तो
प्रधानमंत्री को चिट्ठी
लिखकर यह भी कहा था कि अगर
नीलामी नहीं रुकी तो वो सरकार
की तरफ से दिया गया पद्मश्री
अवॉर्ड लौटा देंगे. लेकिन ये
सारा विरोध धरा रह गया और
गांधीजी से जुड़ी 29 चीजें
देखते ही देखते नीलाम हो गईं.<br /><br />जिन
चीजों की नीलामी की गई है,
उनमें वो मिट्टी और घास भी
शामिल है जिस पर बापू की
हत्या के वक्त उनका खून गिरा
था.<br /><br />बापू के खून से सनी
मिट्टी और घास 10,000 पाउंड यानी
करीब 8 लाख 19 हजार रुपये में
नीलाम हुई. <br /><br />बापू का चश्मा
34,000 पाउंड यानी करीब 27 लाख 84
हजार रुपये में नीलाम हुआ है.<br /><br />इसी
तरह बापू का चरखा 26,000 पाउंड
यानी करीब 21 लाख 63 हजार रुपये
में नीलाम किया गया है.<br /><br />पीटीआई
के मुताबिक घास, मिट्टी,
चश्मा और चरखा किसी एक ही
शख्स ने फोन पर बोली लगाकर
खरीदा है, मगर खरीदार की
पहचान अब तक उजागर नहीं की गई
है.<br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story अमेरिका: दो भारतीयों ने स्मगलिंग की बात स्वीकारी, होगी पांच साल की जेल और 31,836,250 रुपए का जुर्माना