भारत-चीन युद्ध पर चीनी रिपोर्टः इतिहास को ‘विकृत’ और 'सच्चाई छिपा रही है' कांग्रेस

भारत-चीन युद्ध पर चीनी रिपोर्टः इतिहास को ‘विकृत’ और 'सच्चाई छिपा रही है' कांग्रेस

By: | Updated: 18 Apr 2014 05:29 AM

बीजिंग: भारत-चीन के बीच 1962 में हुए युद्ध के बारे में कांग्रेस पर इतिहास को ‘‘विकृत’’ करने और ‘‘सच्चाई को छिपाने’’ का आरोप लगाते हुए चीन के सरकारी अखबार ने कहा कि यह विवाद अभी भी दोनों देशों के उभरते संबंधों में ‘‘जहर’’ घोल सकती है.

 

चीन के साथ 1962 के युद्ध के कारणों पर भारत का सरकारी मूल्यांकन बताई जाने वाली ‘हेंडर्सन ब्रुक्स रिपोर्ट’ के कुछ हिस्सों के सार्वजनिक होने के बाद पहली बार चीन के सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने इसपर लेख प्रकाशित किया है.

 

सामान्य तौर पर अपने राष्ट्रवादी विचारधारा के लिए प्रसिद्ध इस अखबार ने अपनी वेबसाइट पर ‘हेंडर्सन ब्रुक्स रिपोर्ट’ के बारे में लिखा है, ‘‘हालांकि यह अब गोपनीय श्रेणी में नहीं है, लेकिन नई दिल्ली इसे अभी भी बेहद गुप्त मानती है.’’

 

‘‘सीमा विवाद अभी भी चीन-भारत संबंधों को विषाक्त कर सकता है’’ शीषर्क से प्रकाशित इस लेख में कहा गया है, ‘‘अतीत में कांग्रेस पार्टी ने एक बार चीन के साथ सीमा विवाद की सच्चाई छुपायी, इतिहास को विकृत किया और आम जनता को भ्रमित किया है ताकि वह सत्तारूढ़ दल की अपनी स्थिति बनाए रख सके और अंतरराष्ट्रीय समुदाय में भारत की न्यायप्रिय छवि बरकरार रहे.’’

 

लेख के अनुसार, ‘‘अब सरकार फिर से रिपोर्ट के तथ्यों को छिपाने का प्रयास कर रही है. और इसका कारण बता रही है कि यह तथ्य न सिर्फ बहुत संवेदनशील हैं बल्कि उनका वर्तमान में भी काफी महत्व है.’’ उसमें लिखा है, ‘‘वास्तव में चीन-भारत सीमा विवाद सिर्फ उनके द्विपक्षीय संबंधों में महत्वपूर्ण मुद्दा नहीं है बल्कि भारत के राजनीतिक हलके में भी बेहद संवेदनशील विषय है.’’

 

लेख के अनुसार, ‘‘भारतीय सेना की हार ने तक तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व वाली सरकार को अभूतपूर्व दबाव और संकट की स्थिति में ला खड़ा किया था.’’ हेंडर्सन ब्रुक्स रिपोर्ट के अंशों को जारी करने वाले आस्ट्रेलियाई पत्रकार नेवेली मैक्सवेल की किसी चर्चा से बचते हुए लेख में बताया गया है कि भारत में हालिया आम चुनाव में किस तरह से रिपोर्ट एक राजनीतिक मुद्दा बन सकती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest World News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शहंशाह जायद की तस्वीर बेचने से दुकानदार ने किया मना, मौजूदा किंग मोहम्मद ने की मुलाकात