रूसी समर्थकों ने यूक्रेन के नेवी हेडक्वाटर पर अपना कब्ज़ा जमाया

रूसी समर्थकों ने यूक्रेन के नेवी हेडक्वाटर पर अपना कब्ज़ा जमाया

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

लंदन/मास्को/ब्रसेल्स: रूस समर्थक सैनिकों ने बुधवार को क्रीमिया स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा कर लिया यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र प्रमुख बान की मून रूस और क्रीमिया की यात्रा की तैयारी में हैं. यूक्रेन के एक सैनिक को गोली मार कर ढेर कर दिए जाने के एक दिन बाद रूस समर्थक बलों ने सेवास्टोपोल स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा जमा लिया.

 

गार्डियन के मुताबिक, सेवास्टोपोल में बड़ी संख्या में यूक्रेन के सैनिक मौजूद हैं और उनमें से कुछ का कहना है कि पीछे हटने की जगह वे लड़ना पसंद करेंगे. बुधवार की स्थिति हालांकि इस बात की पुष्टि है कि कुछ सैनिक रूसी सैनिकों के साथ संघर्ष में जुटे हैं.

 

मंगलवार को हुई मौत क्रीमिया के रूस में विलय के बाद पहली मौत थी. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को घोषणा की थी कि वे क्रीमिया को अपने दायरे में शामिल करेंगे.

 

इस बीच यूक्रेन के पहले उपप्रधानमंत्री विटले यारेमा और रक्षा मंत्री आईगोर तेन्युख को क्रीमिया में प्रवेश नहीं करने दिया गया. यह जानकारी सामाजिक नीति के मंत्री ल्युडमिला डेनिसोवा ने बुधवार को दी.

 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक डेनिसोवा ने कहा, "हम राष्ट्रीय रक्षा और सुरक्षा परिषद की इस मुद्दे पर बैठक बुलाएंगे." यारेमा और तेन्युख कथित रूप से 'तनाव खत्म करने के लिए' एक विमान द्वारा कीव से क्रीमिया जा रहे थे.

 

क्रीमिया के प्रधानमंत्री सर्गेई अक्सेनोव ने बुधवार को कहा कि क्रीमिया के अधिकारियों ने यूक्रेन के मंत्रियों को उतरने की इजाजत नहीं दी. क्रीमिया के रूस में शामिल होने के संबंध में एक समझौते पर हस्ताक्षर होने के एक दिन बाद क्रीमिया में रूस समर्थकों और यूक्रेन समर्थकों के बीच टकराव शुरू हो गए.

 

उधर मास्को ने बुधवार को पश्चिमी देशों पर बुडापेस्ट मेमोरेंडम का उल्लंघन करने का आरोप लगाया. इसमें यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता की गारंटी दी गई है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा है, "सवाल यह है कि किस तरह गारंटी को कीव में दंगों के दौरान यूक्रेन के नेतृत्व के खिलाफ अमेरिका और यूरोपीय संघ की प्रतिबंध लगाने की धमकी को संबद्ध किया जाए."

 

रूस ने कहा है कि उन धमकियों को संप्रभु राष्ट्र पर आर्थिक दबाव के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जबकि पश्चिम के राजदूतों का मैदान, कीव में स्वतंत्रता चौराहे पर स्थायी दबाव को विद्रोह को बढ़ावा देने वाली कार्रवाई के रूप में परिभाषित किया जा सकता है.

 

मंत्रालय ने अमेरिका और यूरोपीय यूनियन का कीव की घटना के दौरान यूक्रेन के वैध राष्ट्रपति को साझीदार के रूप में नहीं माने जाने का भी उल्लेख किया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शहंशाह जायद की तस्वीर बेचने से दुकानदार ने किया मना, मौजूदा किंग मोहम्मद ने की मुलाकात