लापता मलयेशियाई विमान की खोज में अब तक का सबसे अहम सुराग हाथ लगा!

By: | Last Updated: Sunday, 23 March 2014 2:59 PM

पर्थ/क्वालालंपुर: लापता मलयेशियाई विमान की खोज में अब तक का सबसे अहम सुराग हाथ लगा है. सैटलाइट द्वारा जारी तीसरे सेट की तस्वीरों में लापता विमान के दक्षिणी हिंद महासागर में होने की ही पुष्टि हुई है. यह तस्वीरें फ्रांस ने जारी की हैं. मलयेशिया ने तुरंत इन तस्वीरों को ऑस्ट्रेलियन सेंटर में भेज दिया है. इस समुद्री क्षेत्र में पहले से ऑस्ट्रेलिया की एक इंटरनैशनल टीम लापता हुई मलयेशियाई फ्लाइट 370 की खोज कर रही है.

 

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया और चीन की सैटलाइट तस्वीरों ने भी लापता विमान के दक्षिणी हिंद महासागर में ही होने की बात कही थी. इसमें पट्टियों वाले बॉक्स जैसा ऑब्जेक्ट तैरता हुआ दिखा था. अब फ्रांस द्वारा इसी क्षेत्र में प्लेन के होने की संभावना पर कुछ और विमानों को खोज में लगा दिया गया है. ऑस्ट्रेलियाई समुद्री सुरक्षा अथॉरिटी की प्रवक्ता ने बताया कि रविवार को आठ विमान खोज के लिए दक्षिणी हिंद महासागर में भेजे गए. इसके अलावा सोमवार से चीन और जापान के दो-दो प्लेन और इस क्षेत्र में लगाए जाएंगे.

 

मलयेशिया के परिवहन मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि रविवार सुबह मलयेशिया को फ्रांस के अधिकारियों से सैटलाइट द्वारा ली गई नई तस्वीरें मिलीं. इसमें दक्षिणी कोरिडोर में कुछ वस्तुएं दिख रही हैं. बीते एक सप्ताह में तीसरी बार इस तरह की तस्वीरें आई हैं, जिनमें मलयेशिया एयरलाइन के विमान का मलबा होने की आशंका जताई गई है. अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि फ्रांसीसी सैटलाइट ने क्या उसी इलाके की तस्वीर ली है, जहां चीन ने भी कुछ बहती हुई वस्तुएं देखी हैं.

 

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री टॉनी एबॉट ने कहा कि अब हमारे पास कई विश्वसनीय जानकारियां हैं. इसलिए उम्मीद बढ़ती जा रही है. लेकिन अभी उम्मीद से ज्यादा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा कि शायद हम उस सड़क पर आ गए हैं, जहां हमें लापता विमान मिल जाएगा. गौरतलब है कि मलयेशियाई विमान क्वालालंपुर से उड़ान भरने के एक घंटे बाद रेडार के दायरे से रहस्यमयी तरीके से बाहर हो गया था.

 

भारत ने लापता मलयेशियाई विमान का पता लगाने में मदद के मकसद से रविवार को हिंद महासगार में अपने दो टोही विमान तैनात कर दिए. मलयेशिया के सुबंग हवाई अड्डे से भारतीय नौसेना के पी-8-आई पोसेडियोन और भारतीय वायुसेना सी-130जे सुपर हर्कुलिस विमान ने उड़ान भरी. ये विमान 21 मार्च को मलयेशिया पहुंचे थे. इससे पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ओर से मलयेशिया को पूरी मदद का वादा किया गया था. दोनों विमान उन इलाकों में खोजी अभियान चला रहे हैं, जो ‘एयरोनॉटिकल रेसक्यू को-ऑर्डिनेशन सेंटर’ (एआरसीसी) की ओर से चिन्हित किए गए हैं.

 

लापता मलयेशियाई विमान के कैप्टन को किसी महिला ने टेक ऑफ से पहले फोन किया था. जिस नंबर से फोन आया था, वह जाली आईडी पर लिया गया था और अब यह नंबर अनट्रेसेबल बता रहा है. इस बात को आतंकी संगठनों से जोड़कर देखा जा रहा है. पुलिस के अनुसार, क्वालालंपुर की एक दुकान से एक महिला ने यह नंबर हाल में लिया था. जांचकर्ताओं ने गंभीरता से इस दिशा में जांच शुरू कर दी है. इस रहस्यमयी महिला को छोड़कर फ्लाइट टेकऑफ करने से घंटों पहले तक जिस-जिसने कैप्टन से बात की थी, उन सबसे पुलिस पूछताछ कर चुकी है.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: लापता मलयेशियाई विमान की खोज में अब तक का सबसे अहम सुराग हाथ लगा!
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017