व्हाइट हाउस के लिए कड़ा मुकाबला बरकरार: सर्वेक्षण

व्हाइट हाउस के लिए कड़ा मुकाबला बरकरार: सर्वेक्षण

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>वाशिंगटन:</b> ऐसे समय में जब
राष्ट्रपति बराक ओबामा और
उनके रिपब्लिकन
प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी ने
राष्ट्रपति पद के लिए होने जा
रहे पहले महत्वपूर्ण बहस के
लिए जोरदार तैयारी कर रखी है,
एक नए राष्ट्रीय सर्वेक्षण
में स्पष्ट हुआ है कि व्हाइट
हाउस के लिए कांटे का मुकाबला
बरकरार है.
</p>
<p style="text-align: justify;">
एनबीसी न्यूज/वालस्ट्रीट
जर्नल सर्वेक्षण के लिए
सम्भावित मतदाताओं में किए
गए सर्वेक्षण के परिणाम हाल
के सीएनएन के सर्वेक्षणों के
सर्वेक्षण से मेल खाते हैं.
सीएनएन के सर्वेक्षणों का
सर्वेक्षण इस नए सर्वेक्षण
और पिछले सप्ताह किए गए छह
अन्य सर्वेक्षणों का औसत है.
</p>
<p style="text-align: justify;">
मंगलवार को जारी
एनबीसी/डब्ल्यूएसजे
सर्वेक्षण में पाया गया है कि
49 प्रतिशत सम्भावित मतदाता
ओबामा का समर्थन करते हैं,
जबकि 46 प्रतिशत रोमनी का.
इसमें ती प्रतिशत नमूने की
भूल-चूक के लिए छोड़ा गया है.
</p>
<p style="text-align: justify;">
सीएनएन ने डेमोक्रेटिक
सर्वेक्षक पीटर डी. हार्ट के
हवाले से कहा है कि आंकड़े
बताते हैं कि ओबामा बेहतर
स्थिति में हैं.
</p>
<p style="text-align: justify;">
ओबामा और रोमनी बुधवार को
आमने-सामने होंगे, जब
कोलोराडो के डेनवर में वे
राष्ट्रपति पद के लिए प्रथम
बहस में हिस्सा लेंगे.
</p>
<p style="text-align: justify;">
एनबीसी/डब्ल्यूएसजे के
सर्वेक्षण में मात्र 22
प्रतिशत पंजीकृत मतदाताओं
ने कहा है कि इस सत्र की बहस
उनकी चयन प्रक्रिया में
अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान
रखती है. जबकि 34 प्रतिशत ने
कहा कि नवम्बर के उनके निर्णय
के लिए बहसों को कुछ हदतक
महत्व होगा.
</p>
<p style="text-align: justify;">
देश की दिशा के बारे में पूछे
जाने पर 53 प्रतिशत
प्रतिभागियों ने कहा है कि
अमेरिका गलत रास्ते पर है,
जबकि 40 प्रतिशत ने कहा है कि
अमेरिका सही रास्ते पर है.<br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 4 साल बाद डीजीएमओ स्तर की बातचीत पर विचार कर रहा पाकिस्तान: मीडिया रिपोर्ट