सीरिया मामले में पुतिन ने अमेरिका को सबूत दिखाने की चुनौती

सीरिया मामले में पुतिन ने अमेरिका को सबूत दिखाने की चुनौती

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
<b>रूस/वॉशिंगटन:</b>
रूस के राष्ट्रपति
व्लादीमिर पुतिन ने अमेरिका
को चुनौती दी है कि वो सीरिया
में हुए रसायनिक हमलों के लिए
सीरिया की सरकार को
ज़िम्मेदार बताने वाले सबूत
संयुक्त राष्ट्र में पेश करे.
उधर वाशिंगटन में अमेरिकी
राष्ट्रपति बराक ओबामा ने
संकेत दिया है कि सीरिया पर
हमले की शुरुआत कभी भी हो
सकती है, इसके लिए संयुक्त
राष्ट्र जांच दल की रिपोर्ट
का इंतजार नहीं किया जाएगा.<br />
</p>
<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
सीरिया पर हमले की सरगर्मी के
बीच पुतिन ने अमेरिका को
चुनौती देकर अंतरराष्ट्रीय
परिदृश्य को एक नए तनाव से भर
दिया है.
</p>
<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
पुतिन ने कहा है कि ऐसे हमले
करके विपक्षियों को भड़काने
का कदम उठाना सीरिया की सरकार
के लिए बड़ी बेवकूफ़ी होता,
वो भी तब जब सीरियाई सेना
विरोधियों को ख़िलाफ़ बढ़त
हासिल कर रही थी.<br />
</p>
<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक
ओबामा ने घोषणा की है कि
अमेरिका का यह दायित्व है कि
वह सीरिया में रासायनिक
हथियार के प्रयोग के लिए उसे
दंडित करे. लेकिन संभावित
हमला सीमित रूप में होगा.
हालांकि इसे लेकर अमेरिकी
सांसदों के बीच मतभेद भी
उभरकर सामने आ गए हैं. उनके
बीच इस बात को लेकर मतभेद हैं
कि सीरियाई राष्ट्रपति असद
की सरकार को रासायनिक
हथियारों के प्रयोग को लेकर
जिम्मेदार ठहराने के लिए कौन
सा रास्ता अपनाया जाए.<br />
</p>
<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
उधर रूस में पत्रकारों से
बातचीत में पुतिन ने कहा,
"अमरीकी सहयोगी और मित्र दावा
करते हैं कि सीरिया की सरकार
ने सामूहिक विनाश के
हथियारों और इस मामले में
रसायनिक हथियारों का
इस्तेमाल किया है और कहते हैं
कि उनके पास सबूत हैं तो
उन्हें ये सबूत संयुक्त
राष्ट्र के हथियार
निरीक्षकों और सुरक्षा
परिषद के समक्ष पेश करने
चाहिए. यह कहना कि हमारे पास
सबूत हैं लेकिन ये ख़ुफ़िया
हैं और किसी को दिखाए नहीं जा
सकते, आलोचकों के सामने नहीं
टिकता. यह अंतरराष्ट्रीय
गतिविधी में शामिल
सहयोगियों के प्रति असम्मान
हैं. अगर उनके पास सबूत हैं तो
वे पेश किए जाने चाहिए. यदि ये
सबूत सामने नहीं आते हैं तो
हम यही मानेंगे कि कोई सबूत
है ही नहीं."<br />
</p>
Next Story मालदीव ने संविधान और भारत के अनुरोध को ताक पर रखा, 30 दिनों तक बढ़ाई इमरजेंसी