इराक में ISIS के ठिकानों पर अमेरिका हवाई हमले करेगा, ओबामा ने दी मंजूरी

By: | Last Updated: Friday, 8 August 2014 3:25 AM
_Obama _orders _air _strike _against _Iraq

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमेरिकी सैन्यकर्मियों की सुरक्षा के लिए इस्लामी आतंकवादियों के खिलाफ ‘लक्षित हवाई हमलों’ और पश्चमोत्तर इराक में एक पर्वत चोटी पर फंसे हजारों धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए हेलीकॉप्टरों से भोजन और पानी गिराने के लिए सेना को अधिकृत कर दिया है.

 

कल देर रात प्रसारित संबोधन में ओबामा ने कहा कि जब अमेरिका के पास पर्वत पर फंसे इराकी अल्पसंख्यकों के नरसंहार को रोकने की क्षमता है तो वह इस स्थिति से अपनी ‘आंखें मूंदकर नहीं रह सकता.’

 

ओबामा ने कहा कि इस्लामिक स्टेट के आतंकियों के इराक के कुर्द क्षेत्र की राजधानी इरबिल की ओर बढ़ने की स्थिति में उन्होंने अमेरिकी सेना को इस्लामिक स्टेट के आतंकियों के खिलाफ हवाई हमले करने का अधिकार दिया है.

 

नौ मिनट तक चले भाषण में ओबामा ने इस फैसले की वजहों के बारे में विस्तार से बताया लेकिन यह भी दोहराया कि कोई भी अमेरिकी सैनिक जमीन पर नहीं होगा.

 

व्हाइट हाउस के राजकीय भोज कक्ष से दिए गए बयान में उन्होंने कहा, ‘‘आज अमेरिका मदद के लिए आ रहा है.’’ उन्होंने कहा कि आज जब अमेरिकियों का जीवन खतरे में है और जब हजारों मासूम नागरिकों पर खतरा है तो अमेरिका कार्रवाई करेगा.

 

अल्पसंख्यक समुदाय याजिदी के हजारों परिवार इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के आतंकियों से बचकर भागने के बाद कथित तौर पर बिना भोजन और पानी के पहाड़ों में फंसे हुए हैं.

 

अलकायदा के सहयोगी समूह के आतंकियों द्वारा कराकोश पर कब्जा कर लेने के बाद शरणार्थियों की भीड़ अपने इस सबसे बड़े शहर से भाग निकली. इनमें बहुत से इराकी ईसाई भी हैं.

 

ओबामा ने कहा, ‘‘हम उस पर्वत पर नरसंहार के संभावित कृत्य को रोकने के लिए सावधानीपूर्वक और जिम्मेदारी के साथ काम कर सकते हैं.’’ रक्षामंत्री चक हेगल ने कहा कि अमेरिकी सेना इराक के भीतर हवाई हमले के लिए तैयार है.

 

नयी दिल्ली के दौरे पर गए हेगल ने वहां से अपने बयान में कहा, ‘‘जरूरत पड़ने पर अमेरिकी सेना लक्षित हवाई हमले करने के लिए भी तैयार रहेगी ताकि इराक की लड़ाई में सुरक्षा बलों की मदद की जा सके, सिंजार पर्वत के कब्जे को तोड़ा जा सके और वहां फंसे इराकी नागरिकों की सुरक्षा की जा सके.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘इसके साथ ही, हम आतंकी काफिलों से अमेरिकी सुरक्षाकर्मियों की सुरक्षा के लिए हवाई हमले करने के लिए तैयार हैं.’’ ओबामा के निर्देश पर अमेरिकी सेना ने इराक के सिंजार के पास इस्लामिक स्टेट से डरे हजारों इराकी नागरिकों के लिए विमानों से भोजन और पानी सफलतापूर्वक गिराया.

 

व्हाइट हाउस से यह जानकारी देते हुए ओबामा ने कहा कि उन्होंने अमेरिकी फौज को निर्देश दिए हैं कि यदि चरमपंथी इरबिल की तरफ बढ़ते हैं तो सधे हुए हवाई हमाले किए जाएं. यह आदेश उन्होंने इसलिए दिए हैं क्योंकि उस इलाके में अमेरिकी नागरिक और फौज मौजूद है.

 

साथ ही उन्होंने कहा कि लोगों को भोजन-पानी की जो सहायता उपलब्ध करायी गयी है वो इराक सरकार के अनुरोध पर करायी गयी है और जो हवाई हमले हुए हैं वो इसी से जुड़े हुए हैं. ओबामा के अनुसार यह हमले इराक सरकार के निर्देश पर धार्मिक अल्पसंख्यकों को मदद पहुंचाने के लिए किए गए हैं.