BOBKOHARAM_KIDNAPPED_2000_GIRLS

BOBKOHARAM_KIDNAPPED_2000_GIRLS

By: | Updated: 14 Apr 2015 03:46 AM

लागोस/नई दिल्ली: एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आज कहा कि बोको हराम ने पिछले साल के शुरू से कम से कम 2,000 से अधिक महिलाओं और लड़कियों का अपहरण किया है. इनमें नाइजीरिया की 219 स्कूली छात्राएं भी हैं जिनका स्कूल से अपहरण किया गया था.

 

बोरनो राज्य के चिबूक में पिछले साल 14 अप्रैल को 219 छात्राओं के अपहरण की घटना ने उग्रवाद की क्रूरता पर पूरी दुनिया का ध्यान आकषिर्त किया था. बहरहाल, मानवाधिकार समूह का कहना है कि उसने प्रत्यक्षदर्शियों और किसी तरह बच कर निकली महिलाओं तथा लड़कियों के बयानों के आधार पर इस्लामी आतंकवादियों द्वारा अपहरण के 38 मामलों का ब्यौरा दर्ज किया है.

 

अपनी रिपोर्ट में एमनेस्टी ने कहा है ‘‘बोको हराम ने कितने लोगों का अपहरण किया इसका अनुमान लगाना मुश्किल है. लड़कियों और महिलाओं की संख्या 2,000 से अधिक हो सकती है.’’ चिबूक से अपहृत छात्राओं के बारे में एमनेस्टी ने एक वरिष्ठ सैन्य सूत्र के हवाले से बताया कि उन्हें तीन या चार समूहों में बांट कर बोको हराम के अलग अलग शिविरों में रखा गया है. ये शिविर बोरनो राज्य, कैमरून और चाड में हैं.

 

नाइजीरिया की सेना ने पहले कहा था कि छात्राओं को कहां रखा गया है उसे इसकी जानकारी है लेकिन उसने बचाव अभियान चलाने से इंकार करते हुए कहा था कि ऐसा करना बहुत ज्यादा खतरनाक होगा.

 

बोको हराम ने पिछले साल मई में एक वीडियो संदेश जारी किया था जिसमें करीब 100 लड़कियों को मुस्लिम परिधान पहन कर कुरान की आयतें पढ़ते दिखाया गया था. इसके बाद लड़कियां नजर नहीं आईं. गुट के नेता अबुबकर शेकाउ ने कहा कि किशोरियों का इस्लाम में धर्मांतरण कराने के बाद उनका विवाह करा दिया गया.

 

एमनेस्टी की रिपोर्ट में बोकोहराम द्वारा सामूहिक अपहरण किए जाने, अपहृत महिलाओं और लड़कियों का उपयोग करने और पुरूषों तथा लड़कों की जबरन भर्ती किये जाने का जिक्र है.

 

महिलाओं एवं लड़कियों ने बोको हराम की दिल दहला देने वाली ज्यादतियों के बारे में बताया है कि किस तरह उन्हें क्षमता से अधिक कैदियों वाली जेलों में रखा जाता है, उन्हें खाना पकाने, साफ सफाई के लिए और इस्लामी लड़ाकों के साथ विवाह के लिए मजबूर किया जाता है.

 

एक मानवाधिकार कार्यकर्ता ने उन 80 से अधिक अपहृत महिलाओं एवं लड़कियों से बात की जो किसी तरह बच निकली थीं. उसके अनुसार, 23 मामलों में महिलाओं और लड़कियों के साथ या तो शिविर में आने से पहले बलात्कार किया गया या उनका जबरन विवाह करा दिया गया.

 

सितंबर 2014 में अपहृत 19 वर्षीय एक महिला ने कहा कि उसके साथ शिविर में कई बार सामूहिक बलात्कार किया गया. बलात्कार करने वालों में से कुछ तो उसके सहपाठी या उसके गांव के ही लोग थे. जो लोग उसे जानते थे उनका सलूक उसके साथ ज्यादा क्रूरतापूर्ण रहा.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest World News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शहंशाह जायद की तस्वीर बेचने से दुकानदार ने किया मना, मौजूदा किंग मोहम्मद ने की मुलाकात