ब्रिटेन में कंजर्वेटिव और लेबर पार्टी के बीच कड़ा मुकाबला

By: | Last Updated: Thursday, 7 May 2015 6:11 PM
BRITAIN

लंदन: ब्रिटेन में पिछले कुछ दशकों के सबसे करीबी मुकाबले वाले आम चुनावों के लिए आज हो रहे मतदान में प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की कंजर्वेटिव पार्टी और विपक्षी लेबर पार्टी के बीच कड़ा मुकाबला है और भारतवंशी समुदाय समेत प्रवासी मतदाता नतीजे में अहम भूमिका निभा सकते हैं.

 

कैमरन की कंजर्वेटिव पार्टी और विपक्षी नेता एड मिलीबैंड की लेबर पार्टी के बीच बराबरी के मुकाबले के चलते त्रिशंकु संसद की संभावना लग रही है. कैमरन ने मतदाताओं से अपनी आखिरी अपील में कहा, ‘‘देश का भविष्य आपके हाथों में है. ऐसा कुछ नहीं करें, जिसका आपको अफसोस हो.’’

 

देश में लाखों लोग मतदान करने पहुंचे और अनेक नेता भी सुबह सबसे पहले इस प्रक्रिया में भाग लेने वालों में शामिल रहे. मौसम खुशनुमा होने की वजह से बड़ी संख्या में मतदाता निकल रहे हैं. मतदान पहले हल्का फुल्का शुरू हुआ लेकिन इसके धीरे धीरे बढ़ने की उम्मीद है.

 

हालांकि वोट डालने को तैयार कई लोग तकनीकी खामियों की वजह से मतदान नहीं कर सके. उनके पास वैध मतदान पत्र होने के बावजूद उनका नाम मतदाता सूची में नहीं था. ब्रिटेन में 15 लाख प्रवासियों और 6,15,000 भारतीय मूल के विद्यार्थियों समेत भारतवंशियों की अहम भूमिका है और इस टक्कर के मुकाबले में हर वोट का महत्व है.

 

ब्रिटेन में भारत की तरह ही चुनाव व्यवस्था है जिसमें अधिक मत प्रतिशत के बजाय अधिक वोट बटोरने वाली पार्टी को विजयी माना जाता है.

 

ब्रिटेन में अब भी पेंसिल से उम्मीदवार के नाम के आगे निशान लगाने के पुराने चलन का इस्तेमाल मतदान में किया जाता है. चुनावी पंडित त्रिशंकु संसद का पूर्वानुमान लगा रहे हैं. 650 सदस्यीय हाउस ऑफ कॉमन्स में बहुमत पाने के लिए किसी भी पार्टी को 326 सांसदों के जादुई आंकड़े तक पहुंचना होगा.

 

प्रधानमंत्री कैमरन पत्नी सामंथा के साथ ऑक्सफोर्डशायर में अपने निर्वाचन क्षेत्र विटनी में शुरूआती मतदान करने वालों में शामिल रहे.

 

विपक्ष के नेता और लेबर पार्टी के एड मिलीबैंड ने करीब एक घंटे पहले डोनकास्टर नॉर्थ निर्वाचन क्षेत्र में पत्नी जस्टिन के साथ मतदान किया. वह देश के नये प्रधानमंत्री के रूप में 10, डाउनिंग स्ट्रीट पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं.

 

ब्रिटेन में करीब 50,000 मतदान केंद्रों पर स्थानीय समयानुसार सुबह सात बजे वोटिंग शुरू हुई जो रात 10 बजे तक चलेगी.

 

लिबरल डेमोक्रेट निक क्लेग, यूनाइटेड किंगडम इंडिपेंडेंस पार्टी के नाइजल फराज और स्कॉटिश नेशनल पार्टी की निकोला स्टुरजन समेत अन्य पार्टी नेताओं ने भी सुबह मतदान शुरू होने के बाद वोट डाला. इस चुनाव में कुल 650 सांसदों का चयन होगा और मतदान के लिए करीब पांच करोड़ लोगों ने पंजीकरण कराया है.

 

ये मतदाता आम चुनावों के साथ ही 290 इंग्लिश स्थानीय निकायों की 10,000 से अधिक काउंसिल सीटों के लिए भी वोट डालेंगे. स्कॉटलैंड यार्ड को चुनाव में धांधली की 18 शिकायतें मिली हैं.

 

हिंदू समूह को पार्टी को समर्थन देने वाला अपना पत्र वापस लेना पड़ा

 

ब्रिटेन में रहने वाले हिंदुओं के एक प्रतिनिधि संगठन को प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की अगुवाई वाली कंजरवेटिव पार्टी के समर्थन में एक खुले पत्र को अपनी बेबसाइट से वापस लेने के लिए तब मजबूर होना पड़ा जब ब्रिटेन के चैरिटी नियामक ने पोस्ट को अपने निर्देशों के खिलाफ पाया.

 

ब्रिटेन में हिंदुओं के सबसे पुराने संगठन नेशनल कौंसिल ऑफ हिंदू टेंपल्स :एनसीएचटी-यूके: ने वोट देने के वास्ते देश भर में हिंदुओं को उत्साहित करने के लिए अपनी बेबसाइट पर एक खत जारी किया था.

 

इसमें कंजरवेटिव पार्टी का हवाला देते हुए कहा गया कि उन्हें तरजीह दी जानी चाहिए. अनुमानत: इस संगठन के 565,000 हिंदू हैं.

 

ब्रिटेन में चैरिटेबल समूहों के आचार को नियमन करने वाले चैरिटी कमिशन ने जोर देकर कहा है कि नियामक का निर्देश स्पष्ट करता है कि चैरिटी संस्था किसी भी राजनीतिक दल या उम्मीदवार को अपना समर्थन नहीं दे सकती.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: BRITAIN
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Britain election
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017