चीन: ‘आतंकी’ संबंधों को लेकर एक भारतीय गिरफ्तार

By: | Last Updated: Thursday, 16 July 2015 3:19 AM
china

बीजिंग: उत्तरी चीन में कथित आतंकी संबंधों के आरोप में एक भारतीय सहित 20 विदेशी व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया जिससे भारतीय मूल के एक व्यक्ति द्वारा स्थापित धार्मिक रूप से प्रेरित अफ्रीकी चैरिटी से जुड़े इस ग्रुप की यात्रा में ‘‘भारी गड़बड़’’ हो गई.

 

गिरफ्तार भारतीय नागरिक की पहचान राजीव मोहन कुलश्रेष्ठ के रूप में हुई हैं. बीजिंग में भारतीय दूतावास ने उनसे मिलने के लिए वाणिज्य दूतावास संपर्क की अनुमति मांगी है. चीन के विदेश मंत्रालय ने आज संक्षिप्त बयान में कहा कि भारतीय व्यक्ति ‘‘आपराधिक क्रियाकलापों’’ में लिप्त था.

 

इनर मंगोलिया के एडरेस हवाईअड्डे पर 10 जुलाई को हिरासत में लिये गये नौ ब्रितानी सहित पर्यटकों के समूह का भारतीय मूल के इम्तियाज सूलीमन द्वारा स्थापित दक्षिण अफ्रीका आधारित चैरिटी ‘गिफ्ट आफ द गिवर्स’ से संबंध है.

 

बीजिंग में भारतीय दूतावास के एक अधिकारी ने कहा कि हम बीजिंग और इनर मंगोलिया की प्रांतीय सरकार के अधिकारियों से संपर्क में हैं जहां उसे हिरासत में लिया गया और हमने व्यक्ति से मुलाकात करने की अनुमति मांगी है.

 

भारतीय दूतावास ने भारतीय नागरिक की पहचान का खुलासा करने से इंकार किया लेकिन दक्षिण अफ्रीकी मीडिया ने कुलश्रेष्ठ सहित हिरासत में लिये गये सभी व्यक्तियों के नाम प्रकाशित किये.

 

गिफ्ट ऑफ गिवर्स के अनुसार, ‘‘यह यात्रा प्राचीन चीन को समझने के लिए थी. 47 दिन की इस यात्रा पर 10 दक्षिण अफ्रीकी, नौ ब्रितानी और एक भारतीय व्यक्ति गया था. शुक्रवार 10 जुलाई को इस यात्रा में भारी गड़बड़ हो गई, जब इन लोगों को इनर मंगोलिया के एडरेस हवाईअड्डे पर स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजकर 40 मिनट पर गिरफ्तार कर लिया गया.’’

 

समूह ने कहा कि गिरफ्तारियों के 48 घंटे बाद टूर संचालक को रविवार को कुछ गड़बड़ महसूस हुई. तब उसने पाया कि छुट्टी मनाने आए लोगों को हवाईअड्डे पहुंचने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है.

 

चैरिटी ने कहा कि चीन का कहना है कि कुछ सदस्य एक आतंकी समूह से जुड़े हैं जो प्रतिबंधित संगठन है और ये सदस्य होटल के अपने कमरे में दुष्प्रचार वाला वीडियो देख रहे थे. अधिकारी ने कहा कि मिशन को हिरासत में लिये गये भारतीय व्यक्ति की पहचान की जानकारी है लेकिन उन्होंने जानकारी सार्वजनिक करने से इंकार किया.

 

दूतावास ने पाक के कब्जे वाले कश्मीर और अफगानिस्तान की सीमा से सटे शिनझियांग में बढ़ते उग्रवाद से लड़ रहे चीन में इस तरह के पहले मामले में 20 विदेशियों को हिरासत में लेने की खबरों के बाद चीन के संबंधित अधिकारियों से संपर्क किया.

 

‘द गिफ्ट आफ द गिवर्स’ चैरिटी ने आज बयान में कहा कि चीन में दक्षिण अफ्रीकी और ब्रिटिश सरकारों के हस्तक्षेप के बाद हिरासत में लिये गये 20 में से 11 लोगों को लेकर कुछ गतिविधि हुई है. तीन सरकारों के प्रतिनिधि इनर मंगोलिया के एडरेस में मिले जहां लंबी चर्चा हुई लेकिन 20 में से किसी भी व्यक्ति पर औपचारिक रूप से कोई आरोप नहीं लगाया गया.

 

समूह ने फेसबुक पर कहा, ‘‘इस बात पर सहमति बनी कि 11 लोगों को ‘छोड़ा जाएगा’, इसका मतलब यह हुआ कि चीन से बाहर के लिए फ्लाइट नहीं मिलने तक उन्हें हिरासत में रखा जाएगा.’’ इसमें कहा गया, ‘‘हमारी अब समस्या पांच अन्य दक्षिण अफ्रीकी, तीन ब्रितानी और एक भारतीय नागरिक को लेकर है जिन्हें अभी रिहा नहीं किया गया है और ना ही अब तक उन पर कोई आरोप लगा है.’’

 

चैरिटी समूह ने कहा, ‘‘ब्रिटेन के जिन छह नागरिकों को जाने की अनुमति दी गई है उनकी आज फ्लाइट है.. पांच दक्षिण अफ्रीकी व्यक्तियों की आज की फ्लाइट की भी पुष्टि हुई थी लेकिन चीन ने इसे रोक दिया और कहा कि वे पिछले आश्वासनों के बावजूद आज नहीं जा सकते.’’

 

इसमें कहा गया, ‘‘अगर चीन फिर से नहीं रोकता है तो पांच दक्षिण अफ्रीकी व्यक्तियों के कल रवाना होने की पुष्टि हुई है और उनके शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका पहुंचने की उम्मीद है.’’ चीन के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा कि समूह पर ‘‘अपराध करने का’’ संदेह है.

 

ब्रिटिश विदेश कार्यालय के एक प्रवक्ता ने आज कहा, ‘‘नौ ब्रिटिश नागरिक और ब्रिटेन तथा दक्षिण अफ्रीका की दोहरी नागरिकता वाले दो व्यक्तियों को उत्तरी चीन में हिरासत में लिया गया था. महावाणिज्य दूतावास के कर्मचारियों ने समूह से मिलकर उन्हें मदद दी और हमने इन व्यक्तियों की हिरासत के कारणों के बारे में चीन के अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांगा है.’’

 

इसमें कहा गया कि चीन के अधिकारियों द्वारा गिरफ्तार भारतीय नागरिक और 13 अन्य पर्यटक अब भी हिरासत में हैं लेकिन उनमें से छह ब्रिटिश नागरिकों को उनके देश भेजा जा रहा है.

 

अब तक रिहा किये गये छह ब्रितानियों के आज ब्रिटेन पहुंचने की उम्मीद है. समूह ने एक बयान में कहा, ‘‘गिरफ्तारी के लिए कोई कारण नहीं बताए गए. सेलफोन जब्त कर लिए गए. इन लोगों के देश के दूतावासों या इनके परिवारों को इन तक नहीं पहुंचने दिया गया. इन्हें बिना किसी आरोप के हिरासत में रखा गया है और संचार के किसी तरीके या कानूनी प्रतिनिधित्व तक इनकी पहुंच नहीं है.’’

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: china
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Arrest China group India relation terrrorist
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017