चीनी विश्वविद्यालयों में ‘पश्चिमी’ पाठ्य पुस्तकों पर प्रतिबंध का फरमान

By: | Last Updated: Friday, 30 January 2015 4:55 PM
China says no room for ‘western values’ in university education

बीजिंग: राष्ट्रपति शी चिनफिंग के शैक्षणिक संस्थानों पर कसते वैचारिक शिकंजे के बीच चीन ने युवा पीढ़ी पर पश्चिमी मूल्यों के प्रभाव को कुंद करने के लिए विश्वविद्यालयों में आयातित पाठ्य पुस्तकों पर प्रतिबंध लगाने का फरमान जारी किया है.

 

शिक्षा मंत्री युआन गुइरेन ने विवि के अधिकारियों से कहा, ‘हमारी कक्षाओं में पश्चिमी मूल्यों को प्रोत्साहित करने वाली पाठ्य पुस्तकों को कतई सामने न आने दें.’

 

पीकिंग विवि और त्सिंगुआ विवि समेत कई प्रमुख विश्वविद्यालयों के प्रमुखों की भागीदारी वाले एक सम्मेलन में कल उन्होंने कहा, ‘ कम्युनिस्ट पार्टी आफ चाइना के नेतृत्व की मानहानि और ‘साम्यवाद को कलंकित’ करने वाली टिप्पणियां कालेजों की कक्षाओं में सुनायी नहीं देनी चाहिए.’

 

चीन में विवि का संचालन सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों में है जो इतिहास पर परिचर्चाओं और सत्ता पर उसकी पकड़ के लिहाज से संवेदनशील समझे जाने वाले अन्य विषयों का नियमन करती है. आयातित पाठ्य पुस्तकों पर प्रतिबंध के इस कदम को राष्ट्रपति शी के वैचारिक अभियान के ताजा कदम के रूप में देखा जा रहा है.

 

यह अभियान मीडिया और इंटरनेट पर अपने मजबूत नियंत्रण के तौर पर पहले ही स्थापित है. अब इसका विस्तार चीनी शैक्षणिक परिसरों तक हो रहा है. हांगकांग स्थित साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट ने आज यह रिपोर्ट प्रकाशित की है.

 

युआन ने इस आदेश के लिए स्टेट कौंसिल और कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के मुख्यालय से मिले संयुक्त निर्देश का परिणाम बताया है. शिन्हुआ संवाद समिति ने यह खबर दी है. शिन्हुआ ने मंत्री के हवाले से बताया है कि पार्टी नेताओं और साम्यवाद को शर्मिन्दा करने वाले किसी भी भाषण पर कक्षा में प्रतिबंध होना चाहिए.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: China says no room for ‘western values’ in university education
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017