गाजा पट्टी में हिंसा जारी, संघषर्विराम की कोशिशों में लगे राजनयिक

By: | Last Updated: Thursday, 24 July 2014 2:01 AM

नई दिल्ली: इजरायल और हमास दोनों के पीछे ना हटने के कारण आज भी गाजा में खूनखराबा होता रहा. करीब एक पखवाड़े से चल रही इस लड़ाई ने अभी तक 680 से ज्यादा फलस्तीनियों और 31 इजरायली नागरिकों की जान ली है.

 

हालांकि अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी का कहना है कि यरूशलम में संघषर्विराम लागू कराने के संबंध में चल रही वार्ता में कुछ प्रगति हुई है.

 

विमानों की सुरक्षा के संबंध में अमेरिकी चेतावनी के बावजूद केरी काहिरा से तेल अवीव पहुंचे और यरूशलम में संघषर्विराम को लेकर गहन वार्ता की. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून से भी भेंट की.

 

अचानक टेल अवीव पहुंचे केरी ने कहा, ‘‘हम निश्चित तौर पर कुछ कदम आगे बढ़े हैं, लेकिन अभी भी बहुत कुछ किया जाना है.’’ अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने क्षेत्र के तूफानी दौरे पर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और फलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से भेंट की.

 

हमास के नियंत्रण वाले गाजा पट्टी से दागा गया रॉकेट आज इजरायल के तेल अवीव स्थित सबसे बड़े हवाई अड्डे बेन-गुरिओन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के पास गिरा. इस घटना के बाद सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए अमेरिकी और यूरोपीय एवं अन्य अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियों ने इजरायल के लिए अपनी उड़ानों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया है. इजरायल की अर्थव्यवस्था के लिए यह बहुत बड़ा धक्का है.

 

इसबीच इजरायल की सेना ने गाजा के इकलौते बिजली स्टेशन सहित अन्य हिस्सों में बमबारी जारी रखी.

 

गाजा के निवासियों का कहना है कि इजरायल ने जिस बिजली स्टेशन को निशाना बनाया उससे गाजा की 50 प्रतिशत जनसंख्या को बिजली मिलती है.

 

‘अल जजीरा’ ने बिजली स्टेशन के अधिकारी के हवाले से कहा कि अब गाजा में सिर्फ 10 प्रतिशत लोगों को ही बिजली मिल सकेगी.

 

आज की लड़ाई गाजा सिटी के पूर्व में स्थित तुफाह में चल रही है.

 

हमास ने कहा कि उसने इजरायली सेना को ले जा रहे एक काफिले पर रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रनेड से हमला किया . हमास की सैन्य शाखा का दावा है कि हमले में तीन इजरायली सैनिक मारे गए. गाजा शहर की एक मस्जिद इजरायली हमले का शिकार बनी जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गयी और 45 लोग घायल हो गए.

 

इजरायल की सेना का कहना है कि उसने रात भर में 187 जगहों को निशाना बनाया है. इनमें से ज्यादातर निशाने पूर्वी गाजा शहर में इजरायल सीमा के पास स्थित साहजाइया शहर पर किए गए.

 

दोनों ही पक्षों में से कोई भी पीछे हटने के संकेत नहीं दे रहा है, ऐसे में मृतकों की संख्या लगातार बढ़ रही है. फलस्तीन के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि कम से कम 680 फलस्तीनी मारे गए हैं और 4,250 घायल हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक इनमें से 70 से 80 प्रतिशत नागरिक हैं.

 

इस लड़ाई में अभी तक इजरायल के 29 सैनिकों सहित 31 इजरायली नागरिक मारे गए हैं . एक अन्य सैनिक अभी तक लापता है लेकिन इजरायल की सेना उसे भी मृत मानकर चल रही है.

 

संयुक्त राष्ट्र राहत एवं कार्य एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए) का कहना है कि 1,18,300 से ज्यादा फलस्तीनी विस्थापित होकर उनके शिविरों में शरण लिए हुए हैं. गाजा के 43 प्रतिशत क्षेत्र में या तो खाली करने की चेतावनी जारी कर दी गयी है या फिर उसे वर्जित क्षेत्र घोषित कर दिया गया है.

 

पुलिस ने बताया कि ताजा घटनाओं में इजरायली टैंक हमले से दक्षिण गाजा में दो बच्चों सहित पांच लोग मारे गए हैं. गाजा पट्टी से दागे गए मोर्टार की चपेट में आकर दक्षिण इजरायल में एक विदेशी कामगार की मौत हो गयी.

 

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के निर्देश पर विदेश मंत्री जॉन केरी ने कल काहिरा में मिस्र और अरब लीग के अधिकारियों के साथ बातचीत की ताकि ‘‘तुरंत संघषर्विराम लागू कराया जा सके.’’ संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने भी 16 दिन से चल रही हिंसा को बंद करके समझौता कराने की कोशिश के तहत अपील की.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम जितनी जल्दी संभव हो संघषर्विराम लागू कराने के लिए अपनी पूरी ताकत के साथ जुट गए हैं, लेकिन हमें अभी भी कुछ काम करना बाकि है.’’ सुबह नेतन्याहू से बातचीत के बाद बान ने कहा, ‘‘हमारे पास इंतजार करने और गंवाने के लिए ज्यादा वक्त नहीं है.’’ जिनिवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख नवी पिल्लै ने कहा कि गाजा पट्टी में इजरायली सेना की कार्रवाई युद्ध अपराध की श्रेणी में आ सकती है. उन्होंने हमास की ओर से बिना सोचे-समझे किए जा रहे हमलों की भी निंदा की.

 

गाजा पर इस्रइल के हमले के संबंध में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की आपातकालीन बैठक पर पिल्लै ने कहा, ‘‘इस बात की प्रबल संभावनाएं हैं कि अंतरराष्ट्रीय कानूनों का कुछ इस तरह से उल्लंघन हुआ है कि वह युद्ध अपराध की श्रेणी में आएं.’’ ‘वाईनेट’ की खबर के अनुसार, नेतान्याहू ने अमेरिकी वाणिज्यिक उड़ानों को दोबारा शुरू करने के लिए केरी की मदद मांगी. गाजा से हो रहे रॉकेट हमलों के कारण उन्हें रद्द कर दिया गया है.

 

अमेरिकी संघीय विमानन प्रशासन :एफएए: ने इजरायल के बेन-गुरिओन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास फलस्तीनी रॉकेट गिरने के बाद सभी अमेरिकी विमानन कंपनियों से कहा था कि वे 24 घंटे के लिए इजरायल जाने वाली सभी उड़ानें रद्द कर दें.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gaza_patti_violence
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017