मुस्लिमों को बहिष्कार से बचाना महत्वपूर्ण: मर्केल

By: | Last Updated: Friday, 16 January 2015 7:51 AM

बर्लिन: जर्मनी की चांसलर एंजला मर्केल ने पिछले सप्ताह फ्रांस में हुए हमले के बाद मुस्लिमों का सामाजिक बहिष्कार किए जाने के खिलाफ मजबूती के साथ अपनी आवाज उठाई लेकिन साथ ही कहा कि इस्लामी धर्मगुरूओं को इस्लाम और आतंकवाद के बीच स्पष्ट रेखा खींचनी होगी. मर्केल ने आतंकवादी हमले में मारे गए 17 लोगों को जर्मन संसद में श्रद्धांजलि दिए जाने के बाद यह बात कही.

 

जर्मनी के पूर्वी शहर द्रेसदान में खुद को ‘पश्चिम के इस्लामीकरण के खिलाफ देशभक्त यूरोपीय’ (पीईजीआईडीए) बताने वाले एक संगठन ने रैलियां निकालीं जिसमें सोमवार को लोगों ने भारी संख्या में शिरकत की. मर्केल ने इन रैलियों की आलोचना की और कहा कि वह जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति के उस बयान से सहमति रखती हैं कि इस्लाम अब ‘जर्मनी का है.’ उन्होंने पेट्रियोटिक यूरोपीयंस का नाम लिए बिना सांसदों से कहा, ‘‘ हम उन लोगों को समाज को दोफाड़ करने की अनुमति नहीं देंगे जो इस्लामी आतंकवाद की सूरत में जर्मनी में मुस्लिमों को शक की नजर से देखते हैं.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘मुस्लिमों का सामाजिक बहिष्कार कतई नहीं होना चाहिए, सभी पर एक नजर से शक नहीं किया जाना चाहिए. बतौर चांसलर इस देश में मैं इसके खिलाफ मुसलमानों के बचाव में खड़ी हूं.’’ मर्केल ने कहा, ‘‘जर्मनी में अधिकतर लोग इस्लाम के दुश्मन नहीं हैं.’’ चांसलर ने कहा कि लोग यह जानना चाहते हैं कि क्यों आतंकवादी मानवीय जीवन का सम्मान नहीं करते और बार बार धर्म को अपना प्रेरक बताते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘यह महत्वपूर्ण और त्वरित सवाल हैं जिन्हें इस्लामी धर्मगुरूओं को स्पष्ट करना चाहिए.’’

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Germany’s Angela Merkel Says Terrorists Commit ‘Blasphemy’
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017