सर्वे: सीएम की रेस में केजरीवाल अव्वल पर सीटों की बाज़ी में बीजेपी आगे

By: | Last Updated: Friday, 19 December 2014 4:03 AM
india today survey_

नई दिल्ली: दिल्ली की जनता एक बार फिर अरविंद केजरीवाल को सीएम बनाने के मूड में नहीं है. इंडिया-टुडे-सीआईसीईआरओ (सिसेरो) के ओपनियन पोल के मुताबिक दिल्ली में बीजेपी बहुमत के जादुई आंकड़े को छू लेगी.

 

इंडिया-टुडे के सर्वे के मुताबिक बीजेपी 39 फीसद वोटों के साथ 34 से 40 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है. बीजेपी को बीते विधानसभा में 32 सीटें मिली थी यानी उसे 2 से 8 सीटों का फायदा हो सकता है.

 

आपको बता दे कि दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत का जादुई आंकड़ा 36 है.

 

आम आदमी पार्टी के 36 फीसद वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहने का अनुमान है. और ‘आप’  की झोली में 25 से 31 सीटें जा सकती हैं. बीते विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 28 सीटें मिली थीं. यानी इंडिया-टुडे के पोल के मुताबिक ‘आप’ की सीटें घट भी सकती हैं.

 

ओपिनियन पोल के मुताबिक कांग्रेस की हालत बीते विधानसभा से भी खराब रहने के आसार हैं.  कांग्रेस 16 फीसद वोटों के साथ 3 से 5 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है. अन्य दलों के खाते में शून्य से दो सीटें जा सकती हैं.

 

किसके कितने वोट

 

25 साल से कम के वोटरों में बीजेपी का जलवा है. 25 साल से कम के 39 फीसद वोटर बीजेपी को वोट करने के ख्वाहिशमंद हैं, जबकि 38 फीसद की पसंद आम आदमी पार्टी है. सिर्फ 16 फीसद ऐसे वोटर कांग्रेस को वोट देना चाहते हैं.

 

महिलाओं में भी बीजेपी ज्यादा लोकप्रिय है. 39 फीसद महिलाओं जहां बीजेपी को वोट देना चाहती हैं वहीं 36 फीसद ही आम आदमी पार्टी की झोली भरना चाहती हैं. 17 फीसद कांग्रेस के साथ हैं.

 

पुरुषों में भी बीजेपी ज्यादा लोकप्रिय है. 39 फीसद पुरुष बीजेपी के साथ हैं तो 36 फीसद आम आदमी पार्टी के साथ. 16 फीसद कांग्रेस के साथ है.

 

इलाके के हिसाब से ट्रेंड

 

दिल्ली के देहात में बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच कांटे की टक्कर है. जहां 34 फीसद बीजेपी के साथ है वहीं 33 फीसद आम आदमी पार्टी के हक में हैं. कांग्रेस यहां भी 16 फीसद वोट के साथ तीसरे स्थान पर है.

 

सर्वे के मुताबिक दिल्ली की अपर और अपर मिडिल क्लास के इलाकों में बीजेपी का खासा जलवा है. इन इलाकों में 45 फीसद लोग बीजेपी को वोट करना चाहते हैं तो 39 फीसद ही आम आदमी पार्टी को वोट देने के पक्ष में हैं. 

 

क्या है मुद्दे

 

लोकसभा चुनाव की तरह ही भष्टाचार अभी सबसे बड़ा मुद्दा बना हुआ है. 21 फीसद दिल्ली वासी इसे सबसे बड़ा मुद्दा करार दे रहे हैं. महिलाओं की सुरक्षा को 17 फीसद लोग बड़ा मुद्दा मान रहे हैं. 15 फीसद की नज़र में पीने के पानी की कमी बड़ा मुद्दा है. 12 फीसद के लिए महंगाई मुद्दा है. महज़ 10 फीसद के लिए बिजली एक बड़ा मुद्दा है.

 

कौन है सीएम की रेस में नंवर वन

 

49 दिन में ही सत्ता से भाग जाने वाले अरविंद केजरीवाल अभी भी दिल्ली की जनता के बीच बतौर सीएम पहली पसंद हैं. दिल्ली की 35 फीसद जनता उन्हें सीएम के तौर पर अपना पहला च्वाइस बताती है, जबकि 19 फीसद बीजेपी के हर्षवर्धन के साथ हैं. 9 फीसद जनता 15 साल तक दिल्ली की सीएम रही शीला दीक्षित को एक बार फिर सीएम देखना चाहती है. 8 फीसद की पसंद कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह लवली हैं.

 

मोदी सरकार का काम

 

34 फीसद लोगों का कहना है कि मोदी सरकार ने उम्मीद से अच्छा काम किया है, 33 फीसद की नजर में उम्मीद के एन मुताबिक किया है, जबकि 22 फीसद का कहना है कि उम्मीद से खराब किया है.

 

‘आप’ की सरकार का प्रदर्शन

 

67 फीसद वोटर ने अरविंद केजरीवाल के 49 दिन की सरकार के काम को सराहा. 32 फीसद ने माना कि उम्मीद से अच्छा काम किया, जबकि 22 फीसद का कहना है कि उन्होनें खराब काम किया.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: india today survey_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017