भारत-पाक बातचीत रद्द होने से अमेरिका को हुई ‘निराशा’

By: | Last Updated: Sunday, 23 August 2015 5:15 AM
india_pak_talks_calls_off_america

नई दिल्ली: अमेरिका ने कहा है कि वह भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) के बीच प्रस्तावित वार्ता रद्द होने से ‘‘निराश’’ है.

 

विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने बताया, ‘‘अमेरिका को इस बात से निराशा है कि इस सप्ताह के आखिर में भारत और पाकिस्तान के बीच होने जा रही वार्ता अब नहीं होगी तथा वह दोनों देशों को औपचारिक वार्ता जल्द बहाल करने के लिए प्रोत्साहित करता है.’’ प्रवक्ता ने हालांकि कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच रूस के उफा में हुई रचनात्मक बातचीत हालांकि काफी उत्साहवर्धक थी.

 

किर्बी ने कहा, ‘‘इस साल के शुरू में उफा में दोनों देशों के नेताओं के बीच हुई रचनात्मक बातचीत खासकर दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच होने वाली वार्ता की घोषणा के बाद अमेरिका बहुत उत्साहित था.’’ दरअसल, कल विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस्लामाबाद को यह अल्टीमेटम दिया कि पाकिस्तान अलगाववादियों के साथ बैठक पर आगे न न बढ़ने की प्रतिबद्धता जताए. इसके बाद पाकिस्तान ने बीती रात को आज प्रस्तावित एनएसए स्तर की वार्ता रद्द कर दी.

 

स्वराज पाकिस्तान के एनएसए सरताज अजीज की उन टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया दे रही थीं जिसमें उन्होंने कहा था कि वह बिना कोई पूर्व शर्तों के वार्ता के लिए भारत आना चाहते हैं.

 

एनएसए स्तर की वार्ता के एजेंडा में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर को शामिल करने से भी भारत नाखुश था क्योंकि इस वार्ता में मुख्यत: आतंकवाद के विषय पर चर्चा होनी थी.

 

उफा में जुलाई में भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों की मुलाकात के दौरान पहली एनएसए स्तर की वार्ता पर सहमति बनी थी.

 

इस बीच अमेरिका के दक्षिण एशियाई विशेषज्ञों ने भारत और पाकिस्तान के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तरीय बातचीत रद्द करने के लिए पाकिस्तान पर दोष मढ़ा है. एक शीर्ष अमेरिकी विचार समूह ‘वुडरो विल्सन इंटरनेशनल सेंटर’ में साउथ एशिया एसोसिएट माइकल कुगेलमेन ने कहा ‘‘पाकिस्तानियों ने हुर्रियत नेतृत्व को आमंत्रण दे कर बातचीत को ही ध्वस्त कर दिया. लेकिन एक बार फिर भारतीयों को यह देखना चाहिए कि आमंत्रण आया और वे ज्यादा सुनियोजित तरीके से प्रतिक्रिया दे सकते थे.’’ उन्होंने कहा कि एक बड़े देश के तौर पर भारत के लिए कहा जाता है कि ज्यादा जिम्मेदार तरीके से काम करे. इन वार्ताओं का रद्द होना शर्मनाक है. वह दूर से भले ही बहुत ज्यादा कुछ नहीं कर सकते थे लेकिन कम से कम वह कुछ गुंजाइश तो छोड़ सकते थे.

 

अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने कहा कि पाकिस्तान का आचरण कश्मीर की ओर अंतरराष्ट्रीय ध्यान आकषिर्त करने की उसकी पुरानी कोशिश के अनुसार ही था.

 

हडसन इन्स्टीट्यूट में दक्षिण और मध्य एशिया मामलों के निदेशक हक्कानी ने कहा ‘‘लेकिन मोदी के नेतृत्व में भारत पुराने चलन को खत्म कर रहा है. भारत में पहले हुए आतंकवादी हमलों, नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी, परस्पर दोषारोपण, सैन्य गतिविधियां और अंतत: अंतरराष्ट्रीय दबाव में आ जाना.. निश्चित रूप से इनमें वृद्धि होने के आसार हैं और इनका पूर्वानुमान भी पहले की तरह नहीं लगाया जा सकता. मोदी वह खेल खेलना नहीं चाहते.’’

 

हक्कानी ने कहा कि कश्मीर पर पाकिस्तान का रूख बेमतलब है लेकिन उसके नेताओं को लगता है कि उन्हें यह किसी भी तरह करना जरूरी है. पाकिस्तान के पास अपने गंभीर अंदरूनी मुद्दे हैं. उन्होंने कहा ‘‘लंबे समय से अनसुलझे रहे ऐसे किसी विवाद के लिए इंतजार किया जा सकता है और इस पर ध्यान देने के बजाय हमें अपने मुद्दों का सामना करने की जरूरत है. पाकिस्तान को अपने लोगों को समृद्ध बनाने पर ध्यान देना चाहिए.’’ एक अन्य अमेरिकी विचार समूह स्टिमसन सेंटर के माइकल क्रेपॉन ने कहा ‘‘नयी दिल्ली के रूख से एक विषयक एजेंडा समझा जा सकता है लेकिन इससे पाकिस्तान की सरकार के लिए कई मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. जो कुछ हुआ उसके नतीजों का पूरी तरह अनुमान है.’’ इस बीच, अमेरिकी मीडिया में भारत पाकिस्तान के बीच गतिरोध को व्यापक कवरेज मिला है.

 

न्यूयॉर्क टाइम्स के शीषर्क में कहा गया है ‘‘पाकिस्तान ने रोक का हवाला देते हुए भारत के साथ वार्ताएं रद्द कीं.’’ इसकी खबर में कहा गया है ‘‘पाकिस्तान की भारत में कश्मीरी अलगाववादियों से मिलने की योजना को लेकर दोनों देशों के बीच विवाद के चलते यह निर्णय हुआ.’’

 

अखबार में आगे कहा गया है कि असहमति दोनों पक्षों पर भारी पड़ी क्योंकि दोनों ही वार्ता रद्द होने के लिए एक दूसरे पर दोषारोपण करने की स्थिति में हैं. भारत ने इस बात पर भी जोर दिया था कि वह चाहता है कि एजेंडा में सिर्फ आतंकवाद का विषय हो जबकि पाकिस्तान कश्मीर क्षेत्र को लेकर चल रहे विवाद पर चर्चा करना चाहता है जिस पर दोनों ही पक्ष दावा करते हैं.’’ वाल स्ट्रीट जर्नल में कहा गया है कि दोनों ही पक्षों ने वार्ता को बाधित करने के प्रयास के लिए एक दूसरे पर आरोप लगाया.

 

अखबार की खबर में कहा गया है ‘‘भारत ने कहा कि पाकिस्तान ने नयी दिल्ली को वार्ता से हटने के लिए उकसाया. भारत ने सीमा पार से होने वाली गोलीबारी में आई तेजी और भारत में दो आतंकी हमलों का हवाला दिया जिसके बारे में उसका कहना है कि इनका संबंध पाकिस्तान में बसे आतंकी गुटों से है.’’ लॉस एंजिलिस टाइम्स के अनुसार, पाकिस्तान की प्रभावशाली सेना ने नवाज शरीफ को दरकिनार किए जाने का संकेत दिया जिससे नरेंद्र मोदी की सरकार में वार्ताओं को लेकर संशय हुआ.

 

पाकिस्तान ने भारत से तोड़ी बातचीत, आतंकवाद पर बातचीत करने के लिए नहीं हुआ तैयार

पाक NSA सरताज अजीज के जवाब में शाम चार बजे विदेश मंत्री सुषमा करेंगी प्रेस कॉन्फ्रेंस  

एनएसए अजीत डोभाल ने की प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात 

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: india_pak_talks_calls_off_america
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: America India NSA level talks Pakistan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017