संघषर्विराम योजना नाकाम, इजरायल ने गाजा पर हवाई हमले फिर शुरू किए

By: | Last Updated: Wednesday, 16 July 2014 1:32 AM

नई दिल्ली: पश्चिम एशिया में मौजूदा संघर्ष को रोकने के मकसद से मिस्र द्वारा प्रस्तावित संघर्ष विराम की योजना नाकाम रहने के बाद इजरायल ने आज गाजा पट्टी पर हवाई हमले फिर शुरू कर दिए.

 

गाजा पर 8 दिन से जारी हमलों में अब तक 195 फलस्तीनी मारे गये और हमास ने भी इजरायल पर राकेट हमले जारी रखे हैं.

 

इजरायली सेना ने ट्विटर पर एक बयान में कहा, ‘‘हमास ने :आज सुबह: गाजा में हमारे हमले रोके जाने के बाद से 47 राकेट दागे हैं. नतीजन, हमने हमास के खिलाफ अपना अभियान फिर शुरू कर दिया है.’’ एक इस्राइली अधिकारी ने कहा, ‘‘हमास और इस्लामिक जेहाद द्वारा संघषर्विराम का मिस्र का प्रस्ताव खारिज करने और इजरायल पर दर्जनों राकेट दागने के बाद, प्रधानमंत्री तथा रक्षा मंत्री ने आईडीएफ को गाजा में आतंकी निशानों के खिलाफ बलपूर्वक कार्रवाई के आदेश दिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ने इजरायली सैन्य बलों को गाजा में आतंकी निशानों के खिलाफ शक्तिशाली तरीके से कार्रवाई का आदेश दिया.’’ इस ताजा हमले में फिलहाल किसी के मारे जाने या घायल होने की खबर नहीं है.

 

इससे पहले मिस्र ने संघषर्विराम की योजना का प्रस्ताव दिया था जिसका उददेश्य गाजा पर नौ दिन से जारी इस्राइल के हमले को रोकना था.

 

इजरायल के प्रधानमंत्री ने चेतावनी दी थी कि अगर हमास के आतंकियों ने मिस्र द्वारा प्रस्तावित योजना स्वीकार करने से इंकार किया तो उसके खिलाफ अभियान तेज किया जाएगा.

 

गाजा से दागे गए एक रॉकेट की चपेट में आकर एक इजरायली नागरिक भी मारा गया. सीमा पार से हो रही हिंसा में इजरायल को पहुंची यह पहली मानवीय क्षति है. हालांकि फलस्तीनी उग्रवादी संगठन हमास ने संघषर्विराम की पेशकश को खारिज करते हुए कहा कि यह एक तरह का ‘समर्पण’ है.

 

हमास द्वारा इस प्रस्ताव को खारिज किये जाने के बावजूद आज सुबह से कई घंटों तक हिंसा में बड़े पैमाने पर कमी देखी गई थी. यह संघर्ष विराम स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजे से प्रभावी हुआ.

 

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इससे पहले कहा था, ‘‘अगर हमास संघर्ष विराम प्रस्ताव स्वीकार नहीं करता है, जैसा कि इस समय प्रतीत भी हो रहा है, तो इजरायल के पास जरूरी शांति हासिल करने के लिए (गाजा में) अपनी सैन्य गतिविधि को बढ़ाने के लिए पूरी अंतरराष्ट्रीय वैधता होगी.’’ उन्होंने कहा कि इजरायल गाजा का ‘विसैन्यीकरण’ चाहता है और अगर उस पर फिर से राकेट से हमला होता है तो उसका करार जवाब दिया जाएगा.

 

इजरायल की सुरक्षा कैबिनेट और प्रधानमंत्री नेतन्याहू की सरकार में शामिल सहयोगी अभी संघर्ष विराम के इस प्रस्ताव को स्वीकार करने के मामले में बंटे हुए थे. कुछ बड़े नेताओं ने इसपर विरोध जताया था.

 

मिस्र की प्रस्तावित संघषर्विराम योजना के अनुसार, इजरायल गाजा में हवाई और नौसैनिक हमले रोक देगा तथा खासकर जमीनी स्तर पर गाजा पट्टी में घुसने से परहेज करेगा.

 

प्रस्ताव के मुताबिक हमास सभी फलस्तीनी समूह पर लगाम लगाएगा और इस्र इजरायल पर सभी तरह के हमले बंद करने के लिए काम करेगा.

 

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने हमास से मिस्र द्वारा प्रस्तावित संघर्ष विराम की योजना को स्वीकार करने की अपील की है.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: israel_gaza
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017