K-2: दूसरी सबसे ऊंची चोटी पर बेटी ने बनाई कब्र

By: | Last Updated: Saturday, 19 September 2015 5:46 PM
K-2_Mountain

नई दिल्ली: एवरेस्ट के बाद दूसरी और भारत की सबसे ऊंची चोटी है के-2.  इसे हत्यारी चोटी भी कहा जाता है. अब तक 40 जानें निगल चुका है 24 हजार फुट ऊंचा के-2 लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है कि मारे गए पिता और बेटे को उसी के-2 पर एक साथ कफन भी मिला और कब्र भी.

 

ये जज्बात की एक ऐसी कहानी है जो डराती, रुलाती है और फिर एक बेटी की जांबाजी हर चुनौती से टकराने की हिम्मत से भर देती है. आज आपको आसमां की ऊंचाई से होड़ लगाने वाली एक ऐसी दुनिया में ले चलते हैं जहां कुदरत बाहें फैलाकर अपने पास बुलाया करती है.

 

आसमां को छू लेने की होड़ लगाती इस दुनिया से उठी पुकार सुनकर उसे गले लगाने हर बार निकल पड़ते हैं कुछ जांबाज, लेकिन वो कभी नहीं लौटते,  ये दुनिया उन्हें लौटने नहीं देती. बर्फ का ये सफेद कफन उन्हें आखिरी नींद में सुला देता है.

 

माउंट एवरेस्ट के बाद दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची चुनौती मानी जाने वाली पाकिस्तान की इस के-2 चोटी को फतह करने का सपना देखने वालों के साथ यही होता रहा है. यानी हर चार पर्वतारोहियों में से एक की मौत. ना उनकी निशानियां मिलती हैं और ना उनके जिस्म और ना ही उन्हें मिलती है आखिरी विदाई. वो सिर्फ एक नाउम्मीद खबर बनकर रह जाते हैं. किलर माउंटेन के-2 की यही कहानी दुनिया ने सुनी और सुनाई है.

 

न्यूजीलैंड की रहने वाली 24 साल की इस लड़की ने दो बरस पहले 27 जुलाई 2013 को एक ऐसी ही कहानी सुनी थी और उसकी जिंदगी में सब कुछ बदल गया था. इस बार के-2 के कहर ने उससे उसके पिता और भाई की जिंदगी छीन ली थी और छिन गई थीं उसकी सारी खुशियां.

 

बचपन की ढेरों यादें अचानक उसके जहन में एक खालीपन भर गई थीं. बाकी रह गया था तो के-2 के सीने पर उसके पिता और भाई के आखिरी कदमों की कहानी को बयां करता ये आखिरी वीडियो.

 

साल 2013 में के-2 की उसी जानलेवा चोटी पर रिकॉर्ड किए गए इस वीडियो में दिख रहे हैं दुनिया के कुछ बेहतरीन पर्वतारोहियों में शुमार किए जाने वाले मार्टी शिमिट और उनका बेटा डेनाली शिमिट 58 साल के मार्टी शिमिट और 25 साल के युवा डेनाली शिमिट के कदम एक विश्व रिकॉर्ड की ओर बढ़ रहे थे. दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची चोटी के-2 को एक पिता और बेटे की जोड़ी एक साथ फतह करने जा रहे थे. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था

 

डेनाली तो मानो हर जोखिम को अपने जज्बे से मात देने के लिए ही निकला था. हुआ भी यही 27 अगस्त 2013 की सुबह के-2 हार गया था. उसके शिखर पर मार्टी और डेनाली की टीम ने फतह हासिल कर ली थी.

 

लेकिन इसके बाद वो जश्न मनाने के लिए अपने घर नहीं लौट पाए. उस रात वो सो रहे थे जब के-2 की फितरत ने रंग दिखाया. टीम ने बताया था कि उस रात एक बर्फीला तूफान आया था. फिर ना तो वो मिले और ना उनके जिस्म.

 

ना तो उनका मिलना मुमकिन था और ना 24 बरस की डी एंजिलो के लिए अपने पिता और भाई को भूल पाना. वो उन दिनों अमेरिका के टेक्सस शहर में अपना पब्लिशिंग हाउस चला रही थी. उसने उनकी यादों को संजोने का सिलसिला शुरू किया. भाई डेनाली की पेंटिंग्स की प्रदर्शनियां दुनिया के कोने कोने में लगाई जाने लगीं. वो और कर भी क्या सकती थी?

 

उसने माइक हॉर्न को लिखा, मैं चाहती हूं कि आपको पता चले कि आपने शर्मनाक हरकत की है. आपको उन लोगों के अपमान के लिए शर्म आनी चाहिए जो आपसे पहले वहां पहुंचे थे. ये भयावह तस्वीर मेरे दिमाग में छप गई है. क्या अब इसका सम्मान नहीं होना चाहिए?  इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की तस्वीर किसकी है लेकिन क्या आपको उसकी पहचान और सम्मान की कोशिश नहीं करनी चाहिए. कृपया पहले तो फोटो हटा लें और उन लोगों को दुख में ना धकेंलें जिन्होंने वहां अपनों को खो दिया है.

 

माइक हॉर्न को उन जोखिम भरे वीडियोज के लिए जाना जाता है जो उन्होंने दुनिया भर की सबसे खतरनाक जगहों पर तैयार किए हैं. माइक हॉर्न को अपने मृतक दोस्त मार्टी शिमिट की बेटी की ये बात चुभ गई और उन्होंने वीडियो से चेहरे को हटा लिया और उसकी जगह रह गया सिर्फ शिमिट परिवार के नाम वाला ये हिस्सा.

 

लेकिन इसके बाद शिमिट परिवार की बेटी डी एंजिलो ने वो किया जो के-2 के इतिहास में कभी नहीं हुआ था. उन्होंने माइक हॉर्न के वीडियो में जो चेहरा देखा था वो उसकी तलाश में के-2 तक जाना चाहती थीं. लेकिन कैसे जातीं?

 

बचपन में एक बार पिता के साथ छोटे से ट्रेक पर जाने के सिवा उन्होंने कभी पहाड़ों का रुख नहीं किया था और उन्हें कोई ट्रेनिंग भी नहीं मिली थी.

 

18 अगस्त 2015 को उन्होंने इस्लामाबाद में कदम रखा और फिर वहां से पाकिस्तान के उत्तरी इलाके में मौजूद कराकोरम पहाड़ियों की तलहटी में पहुंच गईं.

 

जब वो गईं तो वो के-2 से अपने पिता और भाई की मौत का हिसाब मांगना चाहती थीं. उन्होंने पांच स्थानीय सहायकों की टीम बनाई और पाकिस्तान की मिलिट्री से मिन्नतें करके परमिट मांगा.

 

एक चैनल को दिए इंटरव्यू के मुताबिक वो अगले पांच साल तक के-2 में अपने पिता और भाई के जिस्म की तलाश करने की तैयारी करके आई थीं लेकिन जज्बात ने उनके पैरों को पंख दे दिए.

 

महज आठ दिन में वो 1951 में बनाए गए इस के-2 मेमोरियल तक पहुंच गईं. साथ गए गाइड की मदद से अगले तीन दिनों में वो उस जगह पहुंच गईं जहां माइक हॉर्न ने एक लावारिस सिर का वीडियो बनाया था.

 

डी एंजिलो दुनिया की वो ऐसी पहली महिला बन गईं जिन्होंने के-2 की क्रूर कुदरत के हाथों मारे गए दो जिस्मों को खोज निकाला . पहली बार के-2 की चढ़ाई में मारे गए दो लोगों को दुनिया के दूसरे कोने से आया ये सफेद कफन नसीब हुआ. पहली बार के-2 के सीने पर सिर्फ निशानियों का ढेर नहीं बना बल्कि पत्थरों की दो कब्रें भी बनीं जहां वो दो पर्वतारोही आखिरी पनाह पा सकते थे.

 

डी एंजिलो ने क्या ये सब अपने भाई और पिता के लिए ही किया?  पढ़िए उनका जवाब

 

किसी ने उन्हें नहीं दफनाया. किसी ने उनका डीएनए नहीं लिया. उस वक्त मैं जान गई थी मुझे वहां पहुंचना होगा, उन्हें सही तरह से आखिरी विदाई देनी होगी और उनकी पहचान करनी होगी. ये सिर्फ इसलिए नहीं था कि मैं जाकर अपने पिता और भाई को श्रद्धांजलि दूं बल्कि ये हर उस पर्वतारोही के लिए मेरी श्रद्दांजलि है जो के-2 की चढ़ाई में मारे गए.

 

अब डी एंजिलो उस डीएनए सैंपल के नतीजों का इंतजार कर रही हैं जो तय करेगा कि के-2 पर बनी समाधि पर उनके पिता मार्टी शिमिट और भाई डेनाली शिमिट का नाम लिखा जाए या नहीं.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: K-2_Mountain
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: K-2 Mountain
First Published:

Related Stories

नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड क्रॉस
नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड...

जिनेवा: आईएफआरसी यानी   ‘इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रॉस एंड रेड क्रीसेंट सोसाइटीज’ ने...

फिनलैंड के टुर्कू में शख्स ने भीड़ पर चलाया चाकू, दो की मौत, आठ लोग घायल
फिनलैंड के टुर्कू में शख्स ने भीड़ पर चलाया चाकू, दो की मौत, आठ लोग घायल

टुर्कू: पिछले 24 घंटों में यूरोप दो बड़े हमलों से हिल गया. परसों स्पेन में आतंकी हमला हुआ. जिसमें...

‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार
‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार

बीजिंग:  चीन ने शुक्रवार को जापान को फटकार लगाते हुए कहा कि वह चीन, भारत सीमा विवाद पर ‘बिना...

डोनाल्ड ट्रंप के मुख्य रणनीतिकार स्टीव बैनन अपने पद से हटे
डोनाल्ड ट्रंप के मुख्य रणनीतिकार स्टीव बैनन अपने पद से हटे

वाशिंगटन: अमेरिकी के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुख्य रणनीतिकार स्टीव बैनन अपने पद से हट गए....

स्पेन: दो शहरों में आतंकी हमले, वैन से कुचलकर 13 की मौत, 100 से ज्यादा घायल
स्पेन: दो शहरों में आतंकी हमले, वैन से कुचलकर 13 की मौत, 100 से ज्यादा घायल

बार्सिलोना: स्पेन के दूसरे सबसे बड़े शहर बार्सिलोना में हुए आतंकी हमले में अब तक 13 लोगों की मौत...

स्पेन के बार्सिलोना में आतंकी हमलाः 13 लोगों के मारे जाने की खबर
स्पेन के बार्सिलोना में आतंकी हमलाः 13 लोगों के मारे जाने की खबर

नई दिल्लीः स्पेन के बार्सिलोना में आज एक आतंकी हमले में 13 लोगों के मारे जाने की खबर आई है. इस...

हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम: पाकिस्तान
हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम:...

इस्लामाबाद: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के बाद अमेरिका ने कश्मीर में...

अब ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करेंगी मलाला यूसुफजई!
अब ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करेंगी मलाला यूसुफजई!

लंदन: पाकिस्तानी अधिकार कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई ने आज ‘ए-लेवल’ रिजल्ट हासिल कर लिया. इसके...

सियरा लियोन में भयानक बाढ़, लैंडस्लाइड से 300 से ज्यादा की मौत की खबर
सियरा लियोन में भयानक बाढ़, लैंडस्लाइड से 300 से ज्यादा की मौत की खबर

फ्रीटाउन: सियरा लियोन की राजधानी फ्रीटाउन में भीषण बाढ़ के कारण 105 बच्चों की मौत हो गई. फ्रीटाउन...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017