नेपाल में भीषण भूकंप से 565 मरे, भारत भी थर्राया

By: | Last Updated: Saturday, 25 April 2015 11:34 AM

काठमांडू/नई दिल्ली: नेपाल व भारत में आए भीषण भूकंप में कम से कम 565 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हो गए. भूकंप की वजह से दोनों देशों में बड़े पैमाने पर तबाही हुई. कई मकान धराशायी हो गए, सड़कें धंस गई तथा संचार व्यवस्था को भारी क्षति पहुंची है.

 

आधिकारिक दौरे पर थाईलैंड गए नेपाल के प्रधानमंत्री यात्रा को बीच में समाप्त कर तत्काल स्वदेश लौट रहे हैं. दिल्ली में नेपाल उच्चायोग मिशन के उप प्रमुख कृष्ण प्रसाद ढाकाल ने मीडिया से कहा कि स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक, पूरे नेपाल में कम से कम 565 लोगों की मौत हुई है.

 

नेपाल में भारतीय समयानुसार पूर्वाह्न् 11.41 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए. भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 7.9 दर्ज की गई. भूकंप के ये झटके दिल्ली से गुवाहाटी और श्रीनगर से जयपुर तक महसूस किए गए. यहां तक कि भूकंप के आधे घंटे बाद तक छह झटके महसूस किए गए. भारत में अब तक छह लोगों की मौत की खबर है.

 

भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, भारत में रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 6 और गहराई 10 किलोमीटर दर्ज की गई. अमेरिकी भौगोलिक सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप का केंद्र नेपाल का लामजुंग रहा. लामजुंग जिला काठमांडू से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर है. चीन ने तो कहा है कि भूकंप की तीव्रता 8.1 थी.

 

काठमांडू हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया है, जिसके कारण भारत से काठमांडू की उड़ान को रद्द करना पड़ा है. इस बीच इंडिगो का एक विमान वापस दिल्ली लौट गया.

 

अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक, भूकंप की वजह से माउंट एवरेस्ट पर हिमस्खलन हुआ है. इसमें कई पर्वतारोहियों के फंसे होने की आशंका व्यक्त की गई है, जबकि भारत के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि भारतीय सेना एक पर्वतारोही दल सुरक्षित है और उसे राहत अभियान में मदद के लिए कहा गया है.

 

भूकंप से काठमांडू में एक नौमंजिला इमारत धरहरा सहित कई इमारतें धराशायी हो गईं. नेपाल के शाही महल के चारों ओर की दीवारों को भी नुकसान पहुंचा है.

 

झटका बेहद विनाशकारी साबित हुआ. मलबे में फंसे लोग दर्द से कराहते रहे, जबकि बचावकर्मी उन्हें बाहर निकालने के काम में लगे हुए हैं. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, काठमांडू में भारी संख्या में लोग घायल हुए हैं, क्योंकि यहां दर्जनों इमारतें भरभराकर गिर गई हैं.

 

उधर, भारत में बिहार में दो बच्चों सहित पांच लोगों के मारे जाने की खबर है, जबकि पश्चिम बंगाल में दो व्यक्ति की मौत हुई है.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, “नेपाल में भूकंप की खबर आई है. भारत के कुछ हिस्सों में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं.” उन्होंने कहा कि वे इस संबंध में अधिक जानकारी इकट्ठा करने की प्रक्रिया में हैं और भारत और नेपाल दोनों जगह भूकंप से प्रभावित लोगों तक पहुंच बनाने की दिशा में प्रयासरत हैं.

 

वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उत्तर भारत में भूकंप के झटके महसूस किए जाने के बाद आपदा प्रतिक्रिया एजेंसियां जैसे राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) को अलर्ट कर दिया गया है.

 

नेपाल में हालात पर उन्होंने दुख जताते हुए कहा, “मेरी संवेदनाएं नेपाल के उन लोगों के साथ हैं, जो इस भीषण भूकंप से प्रभावित हुए हैं. इस मुश्किल घड़ी में हम नेपाल के लोगों के साथ हैं.”

 

इसी बीच, नेपाल में आए भीषण भूकंप के मद्देनजर पड़ोसी देश को सहायता के लिए तत्काल कदम उठाते हुए भारत ने शनिवार को राहत सामग्री से भरे दो विमानों व राहतकर्मियों को नेपाल के लिए रवाना किया.

 

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि दो सी-17 ग्लोबमास्टर विमान को हिंडन एयरबेस से नेपाल के लिए रवाना किया गया. उत्तर भारत से आई खबरों के मुताबिक, भूकंप और तेज झटकों के बाद लोग अपने घरों और कार्यालयों से निकलकर बाहर आ गए.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Kathmandu_massive earthquake_Nepal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: death Earthquake India Kathmandu massive Nepal
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017