LIVE: रेल भवन पर धरने पर बैठे केजरीवाल, कहा- 10 दिन की तैयारी करके आया हूं, सरकार पोस्टिंग के लिए पैसे लेती है

By: | Last Updated: Monday, 20 January 2014 3:09 AM
LIVE: रेल भवन पर धरने पर बैठे केजरीवाल, कहा- 10 दिन की तैयारी करके आया हूं, सरकार पोस्टिंग के लिए पैसे लेती है

नई दिल्ली: गृह मंत्रालय के सामने धरना देने जा रहे दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों को रेल भवन के पास रोक लिया गया है. मनीष सिसौदिया भी उनके साथ है. उनके साथ पांच गाड़ियों का काफिला है. वहां पर पुलिस बल मौजूद हैं. यहीं पर केजरीवाल लोगों को संबोधित करने लगे.

 

केजरीवाल ने धरने पर लोगों से पहुंचने की अपील की. यहीं तक नहीं रूके उन्होंने कहा कि ईमानदार पुलिस वाले वर्दी उतारकर आंदोलन में शामिल हो जाएं.

 

केजरीवाल ने कहा कि युगांडा हाई कमीशन की महिला सोमनाथ से मिलीं. हाई कमीशन की महिला ने कहा बहुत अच्छा किया.

 

मंत्री बाहर निकले या रजाई में दुबका रहे. तमाम लोगों से रेल भवन पहुंचने की अपील की. दिल्ली में पुलिस वाले पैसा लेते हैं. ऑटो, रेहड़ी वालों से पैसा लेते हैं. पैसे लेकर सरकार पोस्टिंग करती है. पुलिस अपराधी से मिल जाती है. ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए कमिश्नर और गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे को पैसे मिलते हैं.  26 जनवरी झांकियां निकालने से नहीं मनेगा.

 

एसएचओ कहता है कि पैसे देकर आया हूं. केजरीवाल ने कहा कि मैं अव्यवस्था नहीं फैला रहा हूं. पूरे देश में अव्यवस्था फैली हुई है. संवैधानिक व्यवस्था में संकट के लिए सरकार जिम्मेदार है. 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल गृह मंत्रालय के बाहर धरना देने जाने वाले हैं इससे पहले गृह मंत्रालय तक जाने वाले तमाम रास्तों पर पुलिस की तैनाती की गई है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अगर अपने मंत्रियों के साथ धरना देने जाने की कोशिश करते हैं तो उन्हें रोक दिया जाएगा. आगे नहीं जाने दिया जाएगा…

 

लेकिन अगर वो अकेले जाते हैं तो उन्हें जाने दिया जाएगा. अरविंद केजरीवाल अपने छ: मंत्रियों के साथ नहीं जा सकेंगे. सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्रालय तक मीडिया के जाने पर भी रोक लगा दी गई है.

केजरीवाल दिल्ली सचिवालय से धरना देने के लिए निकल चुके हैं. इस दौरान केजरीवाल ने ट्रैफिक नियम को भी तोड़ा है. केजरीवाल ने गाड़ी चलाते समय सीट बेल्ट भी नहीं पहने हुए थे. इस पर अहम सवाल यह उठता है कि जो खुद नियमों के पालन करते की बात करते हैं वो खुद ऐसी हरकत कैसे कर सकते हैं. केजरीवाल पहले से कहते आ रहे हैं कि नियम सबके लिए एक जैसे होते हैं. हालांकि यह खबर आने के बाद अरविंद केजरीवाल तक यह जानकारी पहुंचे उन्होंने सीट बेल्ट पहन ली.

 

 

 

हम आपको बता दें कि पहले केजरीवाल ने पुलिस वालों के निलंबन की मांग की थी लेकिन कल रात उन्होंने ट्वीट करके कहा कि अगर निलंबन नहीं हो सकता तो उन पुलिस वालों का तबादला किया जाए. ये वही पुलिस वाले हैं जिन्होंने दिल्ली के मंत्री सोमनाथ भारती की बात नहीं मानी थी और उनके आदेश को मानने से इनकार किया था.

 

 

 

मुख्यमंत्री के धरने को देखते हुए आज चार मेट्रो स्टेशनों पर आवाजाही बंद कर दी गई है. गणतंत्र दिवस को देखते हुए वीआईपी जोन में धारा 144 लागू है. केजरीवाल ने अपने समर्थकों से धरने में नहीं आने की अपील की है. केजरीवाल गृह मंत्रालय के बाहर धरना देंगे तो उनके पार्टी के विधायक जंतर मंतर पर.

 

 

 

हम आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन है. और इसमें दिल्ली सरकार का कोई दखल नहीं होता.

 

 

 

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल की मांग पर पुलिस अफसरों को सस्पेंड नहीं किया जाएगा. लेफ्टिनेंट गवर्नर की रिपोर्ट का इंतजार होगा. केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल को बताया गया है कि जैसी जांच इस केस में बिठाई गई है, वैसी पहले कभी नहीं बिठाई गई थी, और उन्हें ये समझना चाहिए.

 

 

 

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक समझाने की पूरी कोशिश करने के बावजूद अगर दिल्ली के सीएम और मंत्री प्रदर्शन करना चाहते हैं, तो ये उनकी मर्जी है.

 

 

 

केजरीवाल नॉर्थ ब्लॉक के बाहर धरने पर बैठना चाहते हैं, लेकिन दिल्ली पुलिस का कहना है कि नॉर्थ ब्लॉक के बाहर किसी को धरना नहीं करने दिया जाएगा. बैठना ही है, तो जंतर मंतर पर बैठें.

 

 

 

26 जनवरी पर होने वाले गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर नई दिल्ली में इंडिया गेट और आसपास के इलाकों में अभी से धारा 144 लागू कर दी गई है.

 

 

 

इस पर आप के नेता संजय सिंह ने कहा, “हम लोगों की सेवा कर रहे हैं और हम पीछे नहीं हटने वाले. पुलिस जो चाहे सो कर सकती है.” उनका कहा था कि हमको मीडिया से धारा 144 लागू किए जाने की जानकारी मिली है. हम लोगों की लड़ाई लड़ रहे हैं और हम अपना प्रदर्शन करेंगे ही. पुलिस को अपना काम करने दीजिए.”