एचआईवी की शुरूआत 1920 के दशक में किंसासा में हुई: अध्ययन

By: | Last Updated: Saturday, 4 October 2014 10:21 AM

लंदन: वैज्ञानिकों का कहना है कि व्यापारिक मार्गों का सहारा लेते हुए, शहरी विकास और 1920 के दशक में किंसासा शहर में देह व्यापार जैसे कारकों ने एचआईवी बीमारी के उदय के लिए एक माकूल हालात बना दिया और आज दुनिया भर में इससे 7.5 करोड़ लोग पीड़ित हैं.

 

बेल्जियम में लीयूवेन विश्वविद्यालय और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की अगुवाई में वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने एचआईवी-वन समूह एम बीमारी के अनुवांशिक इतिहास को फिर से खंगाला. घटनाक्रम की कड़ियों के जोड़ने पर पता चला कि एचआईवी का अफ्रीका महादेश और फिर दुनिया में विस्तार हुआ. निष्कर्ष यह निकला कि कांगो की राजधानी किंसासा में इसका प्रादुर्भाव हुआ.

 

टीम के विश्लेषण से पता चला है कि समूह-एम के आम पूर्वज का संभवत: 1920 :95 प्रतिशत अनुमानित तारीख 1909 और 1930 के बीच की है: के आसपास किंसासा में अवतरण हुआ.

 

माना जाता है कि एचआईवी का स्तनपायी :प्राइमेट्स: और बंदरों से होते हुए मानवों में कम से कम 13 बार संचरण हुआ लेकिन इसमें से एक बार संचरण की स्थिति से मानवों में बीमारी की शुरूआत हुयी.

 

टीम के विश्लेषण में 1920 से लेकर 1950 के दशक के बीच शहरी विकास, बेल्जियम औपनिवेशिक शासन के वक्त मजबूत रेलवे लिंक और बदलते देह व्यापार के स्वरूप को किंसासा और दुनिया में एचआईवी की शुरूआत के लिए एक मिला-जुला कारण माना गया है.

 

ऑक्सफोर्ड के जूलोजी विभाग के प्रोफेसर ओलिवर पाइबस और वरिष्ठ लेखकों ने पेपर में लिखा है, ‘‘एचआईवी के अनुवांशिक इतिहास का अधिकतर अध्ययन अब तक टुकड़ों-टुकड़ों में हुआ है. खास स्थानों में विशेष तौर के एचआईवी के जीनोम को देखा गया.’’

 

उन्होंने कहा है, ‘‘पहली बार हमने नवीनतम पायलोग्राफिक :ऐतिहासिक प्रक्रिया का अध्ययन: तकनीक का इस्तेमाल करते हुए उपलब्ध सभी प्रमाणों का विश्लेषण किया जिसकी बदौलत हम संतोषजनक तौर पर अनुमान लगाने में कामयाब हुये कि वायरस कहां से आया.’’

 

पाइबस ने कहा, ‘‘इसका मतलब है कि अब हम अधिक भरोसे के साथ कह सकते हैं कि एचआईवी की कब और कहां पर शुरूआत हुयी. ऐसा लगता है कि 20 वीं सदी के शुरूआत में कई कारकों की बदौलत एचआईवी के उदय को पूरा मौका मिला और बिना थमे यह पूरे अफ्रीका में फैलता गया.’’

 

टीम के अध्ययन में एचआईवी बीमारी के उदय के बारे में जो सुझाया गया है उसमें एक कारक कांगो का परिवहन लिंक भी है. खासतौर पर अपने रेलवे नेटवर्क के कारण किंसासा अफ्रीका के सभी बड़े शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ था.

 

टीम का मानना है कि परिवहन के अलावा, यौन व्यापार के बदलते स्वरूप, अन्य बीमारियों के प्रति लोक स्वास्थ्य प्रयासों के तहत सुई के असुरक्षित इस्तेमाल ने एचआईवी को महामारी में बदल दिया.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: london-1920-hiv-kisansa
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ABP hiv-aids london
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017