साउथ अफ्रीका में गांधी के प्रतिमा का अपमान, बताया नस्लवादी

By: | Last Updated: Monday, 13 April 2015 1:46 PM
mahatma gandhi

जोहांसबर्ग: जिस दिन भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जर्मनी में महात्मा गांधी के प्रतिमा का अनावरण किया उसी दिन साउथ अफ्रीका में कुछ लोगों नें गांधी की प्रतिमा का गंदा कर दिया. इन लोगों ने गांधी पर जातिवादी ताने देते हुए उनकी प्रतिमा पर बाल्टियों में भरकर सफेद पेंट फेंका.

 

सुरक्षा गार्ड नतांदजो ख्वेपे ने कहा कि यह घटना कल हुई जब दोपहर के समय लोगों का एक समूह कार में यहां पहुंचे और प्रतिमा और पास में लगी प्लेट पर सफेद पेंट फेंका. उस प्लेट पर साउथ अफ्रीका में गांधी के इतिहास का विवरण था.

 

उनके हाथों में तख्तियां थीं जिसपर लिखा था नस्लवादी गांधी को हटाया जाए.

 

शहर के केंद्र में स्थित इस प्रतिमा के बारे में माना जाता है कि यह दुनिया की एकमात्र प्रतिमा है जिसमें गांधी को वकील के तौर पर दिखाया गया है और वह अदालत में पहना जाने वाला चोगा धारण किए हुए हैं.

 

प्रतिमा सार्वजनिक परिवहन केंद्र चौराहे पर है, जिसका नाम गांधी चौक रखा गया क्योंकि शहर में अपने प्रवास के दौरान जिस दफ्तर में वह वकालत करते थे वह इसी चौराहे के पास है.

 

ख्वेपे ने कहा, ‘‘उन्होंने कहा कि हमें उन्हें नहीं रोकना चाहिए क्योंकि गांधी नस्ली व्यक्ति थे.’’ समूह के सदस्य अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस (एएनसी) का चिह्न लगाए हुए थे.

 

ख्वेपे ने बताया कि जब समूह ने भागने की कोशिश की तो एक व्यक्ति को पकड़ लिया गया लेकिन वह इससे बेपरवाह था. उसने दावा किया कि उसके राजनैतिक आका उसे शीघ्र छुड़ा लेंगे.

 

पुलिस प्रवक्ता के माखुबेला ने कहा कि उनपर दुर्भावनापूर्ण तरीके से संपत्ति को क्षति पहुंचाने का आरोप लगाया जाएगा.

 

एएनसी प्रवक्ता कीथ खोजा ने घटना की निंदा की और इसमें सत्तारूढ़ पार्टी की संलिप्तता से इंकार किया. उन्होंने कहा कि वो लोग पार्टी को बदनाम करने के लिए एएनसी सदस्य की तरह खुद को पेश कर रहे होंगे.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: mahatma gandhi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017