भारत जैसा पड़ोसी मिलना सौभाग्य की बात: सुशील कोईराला

By: | Last Updated: Friday, 1 May 2015 7:16 PM

काठमांडू: नेपाल में 25 अप्रैल को आए विनाशकारी भूकंप के बाद भारत से मिले सहयोग से गदगद प्रधानमंत्री सुशील कोईराला ने शुक्रवार को कहा कि वह देश धन्य है जिसे भारत जैसा पड़ोसी मिला है.

 

कोईराला के निजी सचिवालय से जारी एक बयान के मुताबिक “यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है कि हमें भारत जैसा पड़ोसी मिला है. नेपाल में जब भी संकट आया है भारत की ओर से ईमानदारी के साथ मदद मिली है.”

 

कोईराला ने कहा कि पिछले तीन दिनों से राहत और बचाव कार्य का जायजा लेने के लिए जब भी वे गए भारतीय दल के प्रयासों से अभिभूत हो गए.

 

भारतीय दल से मिले मदद की सराहना करते हुए कोईराला ने कहा कि भारतीयों की विशेषज्ञता, कौशल और अनुभव ने नेपाल को भूकंप संकट से निपटने में बड़ी मदद की है.

 

छत्तीसगढ़ : आईएएस भूकंप पीड़ितों को देंगे एक दिन का वेतन

 

छत्तीसगढ़ के विधायकों द्वारा अपने एक महीने के वेतन दिए जाने के बाद सूबे के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के सभी अधिकारियों ने नेपाल के भूकंप पीड़ितों के लिए अपने एक दिन का वेतन देने का फैसला लिया है. यह निर्णय आईएएस एसोसिएशन के अध्यक्ष एन. बैजेंद्र कुमार की अध्यक्षता में आयोजित एसोसिएशन की कार्यकारिणी की बैठक में लिया गया. इस दौरान सभी सदस्यों ने भूकंप से प्रभावित नेपाल के लोगों के प्रति अपनी गहरी संवेदना और सहानुभूति प्रकट की.

 

एसोसिएशन की तरफ से करीब साढ़े तीन लाख रुपये भेजे जाएंगे. राज्य में अभी 138 आईएएस पदस्थ हैं, जिनके एक दिन के औसत सैलरी दो से ढाई हजार रुपये है.

 

वायुसेना ने नेपाल से 3358 लोगों को निकाले

 

नेपाल से निकाले गए लोगों को लेकर भारतीय वायुसेना की एक उड़ान के शुक्रवार को यहां पहुंचने के साथ ही भूकंपग्रस्त देश से वायुसेना द्वारा निकाले गए लोगों की संख्या शुक्रवार को 3,358 पहुंच गई है.

 

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सुधांशु कार ने ट्वीट में कहा, “काठमांडू से सी-17 की एक उड़ान के पालम पहुंचने के साथ ही वायुसेना द्वारा निकाले गए लोगों की संख्या 3358 हो गई है.” इस बीच भारतीय सेना द्वारा संचालित राहत-एवं बचाव कार्य जारी है. सेना का राहत काफिला सड़क मार्ग से काठमांडू पहुंचना शुरू हो गया है.

 

सेना के पांच उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर पोखरा और उससे लगे इलाकों में बचाव कार्य के लिए लगातार तैनात हैं. अधिकारियों ने कहा कि सेना के विमानों ने गुरुवार को 77 उड़ानें भरी और 94 शव निकाले. इसके अलावा 363 लोगों को बचाया.

 

सेना के हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल सैनिकों को एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाने, और दुर्गम इलाकों में राहत सामग्री पहुंचाने के लिए भी किया जा रहा है. सिनामांगल और लागाखेल में स्थापित सेना के अस्थायी अस्पतालों ने गुरुवार को 261 लोगों को चिकित्सा सहायता मुहैया कराई और नौ आपरेशन भी किए.

 

अधिकारियों ने कहा कि इस बीच तंबू, कंबल, तिरपाल और प्लास्टिक चादरें लेकर वाहनों के काफिले सड़क मार्ग से शुक्रवार को काठमांडू पहुंचने शुरू हो गए हैं.अधिकारियों ने कहा कि 550 तंबुओं और दो आरओ संयंत्रों के अलावा 12 टन पानी वायुसेना की उड़ानों से नई दिल्ली से काठमांडू के लिए रवाना किए गए हैं.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: New Delhi_Nepal_earthquake_Sushil Koirala
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Sushil Koirala
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017