ओबामा चाहते हैं चीन और रूस के साथ भारत के संबंधों में ‘दरार ’ पैदा करना: चीनी मीडिया

By: | Last Updated: Tuesday, 27 January 2015 3:54 PM

बीजिंग: चीन और रूस के साथ भारत के रिश्तों में ‘दरार ’ पैदा करने की अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की रणनीति के प्रति आगाह करते हुए चीन के सरकारी मीडिया एवं विशेषज्ञों ने आज चेतावनी दी कि वाशिंगटन के साथ नई दिल्ली के घनिष्ठ संबंध से चीन-भारत रिश्तों के लिए समस्या खड़ी हो सकती है.

 

सरकारी अखबार ग्लोबल टाईम्स ने कहा, ‘‘ओबामा की रणनीति बिल्कुल स्पष्ट है. वह एशिया में संतुलन कायम करने की अपनी रणनीति पूरी करने की कोशिश के तहत चीन और भारत तथा भारत एवं रूस के बीच संबंधों में दरार पैदा करना चाहते हैं . ’’

 

अखबार ने अपने पहले पृष्ठ में भारत के 66 वें गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ओबामा की उपस्थिति को भी प्रमुखता से स्थान दिया है .

 

उसकी रिपोर्ट में गुआंगडोंग रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल स्ट्रेटेजीज के प्रोफेसर झोउ फांगयिन के हवाले से कहा गया है कि ओबामा और मोदी के कई करारों पर हस्ताक्षर करने के बाद भारत और अमेरिका ने अपने संबंधों में ‘नये युग ’ का संकेत दिया.

 

कुल प्रेक्षकों का कहना है कि अमेरिका की चीन पर नियंत्रण रखने के लिए भारत को इस्तेमाल करने की मंशा है लेकिन ज्यादातर विशेषज्ञ मानते हैं कि भारत उसके चक्कर में नहीं पड़ेगा.

 

झाउ ने कहा, ‘‘ओबामा तथाकथित ‘चीनी खतरे’ का मुकाबला करने के लिए गठबंधन के तहत भारत को अमेरिका के साथ संबंध मजबूत बनाने के लिए उसपर दबाव डाल रहे है क्योंकि अमरिका नयी दिल्ली के आर्थिक सुधार की धीमी गति और अंतरराष्ट्रीय मामलों में अमेरिका के साथ खड़े रहने की भारत की अनिच्छा से पहले से ही हताश है.’’

 

अखबार के मुताबिक विश्लेषक हालांकि मानते हैं कि भारत के अमेरिका का सहयोगी बनने की संभावना नहीं है क्योंकि वह अपनी पुरानी गुटनिरपेक्ष राजनयिक रणनीति का पालन करता है.

 

झाउ ने कहा, ‘‘इसके अलावा, देश की अर्थव्यवस्था में तेजी लाना मोदी की शीर्ष प्राथमिकता है और उन्हें मालूम है कि निवेश और प्रौद्योगिकी के लिहाज से देश की अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए उन्हें चीन की जरूरत है. ’’ उनके हिसाब से मोदी विभिन्न वैश्विक शक्तियों के बीच मतभेद का फायदा उठा रहे हैं.

 

चाइना इंस्टीट्यूट्स ऑफ कंटेम्पटरी इंटरनेशनल रिलेसंश के शोधवेत्ता फू श्याओछियांग ने भी झाउ के विचारों से सहमति जतायी है.

 

फू ने कहा, ‘‘भारत हमेशा अंतरराष्ट्रीय मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना चाहता है जिसके लिए उसे अमेरिकी सहयोग की जरूरत है. लेकिन सरकार को पता है कि अमेरिका के साथ गठबंधन चीन-भारत संबंध के लिए मुश्किलभरा हो सकता है.’’

 

शंघाई एकेडमी ऑफ सोशल साइंसेज में इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल रिलेशंस के शोधवेत्ता हू झियोंग ने ग्लोबल टाईम्स से कहा, ‘‘मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ कई आर्थिक सहयोग करार किए जब उन्होंने सितंबर (2014) में भारत की यात्रा की थी. ऐसे में अमेरिका का सहयोगी बन जाना अव्यावहारिक है. ’’

 

उन्होंने कहा कि मोदी पिछले भारतीय नेताओं के विपरीत अक्सर ‘अनजाने में ’ अंतरराष्ट्रीय मामलों में अमेरिका के साथ हो जाते हैं क्योंकि वह अपनी एक उपलब्धि के तौर पर भारत की अहम भूमिका प्रदर्शित करना चाहते हैं.

 

यह भी पढ़ें-

कुक का पोता बनता है राष्ट्रपति तो चाय वाला प्रधानमंत्री: ओबामा 

मोदी ने ओबामा से कहा, ‘आपकी यात्रा से संबंधों का नया अध्याय खुला है’ 

जब ओबामा ने कहा, ‘सेनोरिटा, बड़े बड़े देशों में ऐसी छोटी छोटी बातें होती रहती हैं’

मोदी की तस्वीर पर फेसबुक के सीईओ का ‘LIKE’

ओबामा ने दी भारत को नसीहत, कहा- धर्म के नाम पर नहीं बंटना चाहिए देश

ओबामा के भाषण की 10 बड़ी बातें

ओबामा की मोदी को नसीहत, ‘धर्म के नाम पर नहीं बंटना नहीं चाहिए देश’

नौ लाख में तैयार हुआ था PM मोदी का यह स्पेशल सूट?

भारत संग संबंध से किसी तीसरे को बाहर करने की कोशिश नहीं: अमेरिका

किरन बेदी को वीवीआईपी ट्रीटमेंट मिलने पर कांग्रेस और ‘आप’ ने उठाए सवाल

ABP LIVE: ओबामा का तीन दिन का भारत दौरा खत्म, सऊदी अरब गए

तो क्या PM मोदी ने होस्नी मुबारक का स्टाइल कॉपी किया?

ओबामा से मिलने के लिए लाइन में लगे टॉप बिजनेस मैन 

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: obama in India_obama_modi_china_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: China MODI Obama obama in india
First Published: