इस्लामाबाद हिंसक प्रदर्शन: बेइज्जती से बचने के लिए पाकिस्तान ले रहा भारत का नाम

इस्लामाबाद हिंसक प्रदर्शन: बेइज्जती से बचने के लिए पाकिस्तान ले रहा भारत का नाम

अपना घर बचाने की बजाय भारत पर दोष मढ़कर पाकिस्तान ने अपनी परेशानी और बढ़ा ली है. पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक झड़प में दो प्रदर्शनकारी भी मारे गए लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है.

By: | Updated: 26 Nov 2017 08:04 AM
Pakistan calls in army to end anti-blasphemy protests

नई दिल्ली: इस्लामाबाद में धार्मिक समूह तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह के कार्यकर्ताओं के साथ शनिवार को हुई झड़प के बाद हालात अब तक काबू में नहीं आ सके हैं. टकराव में 200 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं, मजबूरन सरकार को सेना की तैनाती करने पड़ी है.


इस बीच अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अब पाकिस्तान ने अपना पुराना प्रोपेगेंडा छेड़ा है. पाकिस्तान को अपने घर में लगी आग के पीछे हिंदुस्तान का हाथ नजर आ रहा है.

पाकिस्तान के गृहमंत्री अहसान इकबाल ने अपने बयान में कहा, ''पिछले दो हफ्ते से ज्यादा समय से इस्लामाबाद में प्रदर्शन कर रही कट्टरपंथी धार्मिक पार्टियों ने भारत से संपर्क किया था और सरकार इस बात की जांच कर रही है कि उन्होंने ऐसा क्यों किया?''


दरअसल इस्लामाबाद में पिछले दो हफ्ते से तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह के कार्यकर्ता इस्लामाबाद एक्सप्रेसवे पर प्रदर्शन कर रहे थे. प्रदर्शनकारी इलेक्शन एक्ट में खत्म-ए-नबुव्वत में किए गए बदलावों को लेकर कानून मंत्री जाहिद हामिद के इस्तीफे की मांग कर रहे थे.


प्रदर्शनकारियों को हटा ना पाने को लेकर इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने भी सरकार को फटकार लगाई थी, जिसके बाद शनिवार को जब इन प्रदर्शनकारियों को हटाने की कोशिश की गई तो हिंसा भड़क उठी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Pakistan calls in army to end anti-blasphemy protests
Read all latest World News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पाकिस्तान के बलूचिस्तान में 300 से ज्यादा आतंकवादियों ने किया आत्मसमर्पण