पाकिस्तान में राजनीतिक गतिरोध खत्म होने के आसार

By: | Last Updated: Thursday, 4 September 2014 4:00 AM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में नवाज शरीफ विरोधी धरने से उत्पन्न राजनीतिक संकट के समाधान की दिशा में बुधवार को तब बात बनती नजर आई जब धरना दे रही पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) अपनी मांगों पर सरकारी दल के साथ वार्ता के लिए राजी हो गई. उधर राजनीतिक संकट के समाधान को लिए देश को सर्वोच्च न्यायालय ने सभी राजनीतिक दलों को गुरुवार तक उपाय पेश करने का निर्देश दिया है.

 

इस बीच सरकार के विरोध में सड़क पर उतरे क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान देश की संसद में अलग-थलग पड़ गए हैं. पूरी संसद एक तरफ है और इसके दूसरी तरफ खान नीत पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ और ताहिर उल-कादरी नीत पाकिस्तान अवामी तहरीक (पीएटी) खड़ी नजर आ रही है.

 

उधर इमरान खान और ताहिर उल-कादरी का संयुक्त प्रदर्शन जारी है. दोनों नेता प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पाकिस्तानी पंजाब के मुख्यमंत्री व शरीफ के छोटे भाई शाहबाज शरीफ से इस्तीफे की मांग पर अड़े हुए हैं.

 

दोनों नेताओं के प्रदर्शन से रेड जोन में तनाव फैला हुआ है. वहां हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी और करीब इतनी ही संख्या में सुरक्षा बल डटे हुए हैं.

 

डॉन ऑनलाइन के मुताबिक, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) नेता और पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक के आवास पर उनसे मुलाकात करने के बाद पीटीआई के उपाध्यक्ष शाह महमूद कुरैशी ने घोषणा की कि लोकतंत्र को बनाए रखने के लिए उनकी पार्टी सरकार के प्रतिनिधियों के साथ रात 8 बजे बातचीत करेगी.

 

संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में विपक्षी वार्ताकारों के दल के अध्यक्ष और जमात-ए-इस्लामी (जेआई) प्रमुख सिराज-उल-हक ने कहा कि मुलाकात उपयोगी रही. उन्होंने कहा, “यह उपयोगी मुलाकात थी. अभी भी गतिरोध है, लेकिन 70 प्रतिशत काम हो चुका है. हम उम्मीद करते हैं कि ठोस समाधान शीघ्र निकल आएगा.”

 

उन्होंने सरकार को नकारात्मकता पैदा करने वाले बयान जारी नहीं करने की भी चेतावनी दी.

 

उन्होंने कहा, “दोनों पक्षों को धर्य बनाए रखना होगा तभी हम इस संकट का समाधान करने में कामयाब हो सकेंगे.”

 

मलिक ने कहा कि विपक्षी टीम ने पीएटी को भी वार्ता के जरिए मुद्दे सुलझाने को कहा है.

 

विपक्षी वार्ताकारों में मलिक, नेशनल एसेंबली के उप नेता लियाकत बलूच, नेशनल एसेंबली के सदस्य गाजी गुलाब जमाल, पंजाब विधानसभा सदस्य मिलान असलम और सिनेटर कुलसुम परवीन एवं हासिल बिजेंजो शामिल हैं.

 

उधर पाकिस्तान में सरकार विरोधी प्रदर्शन से उत्पन्न राजनीतिक संकट के समाधान पर सक्रियता दिखाते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को राजनीतिक दलों के नेताओं से गुरुवार तक अपनी राय सौंपने के लिए कहा है.

 

अदालत ने पीटीआई और पीएटी के धरना और उनके संविधानेतर कदमों के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान अदालत ने यह निर्देश दिया.

 

इससे पहले 2 सितंबर को शीर्ष अदालत ने सभी संसदीय पार्टियों को नोटिस जारी किया था. अदालत ने जुल्फिकार नकवी के आग्रह पर सभी को नोटिस जारी किया था. नकवी ने अदालत से सभी पार्टियों को नोटिस जारी करने का अनुरोध किया था ताकि गतिरोध टूट सके.

 

बुधवार को मामले की सुनवाई पाकिस्तान के प्रधान न्यायाधीश नसीरुल मुल्क की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों वाली पीठ ने की.

 

सुनवाई के दौरान पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के बैरिस्टर ऐतजाज अहसान ने उल्लेख किया कि पीएटी और पीटीआई के प्रदर्शनकारियों ने संसद के पार्किं ग क्षेत्र पर कब्जा जमा रखा है और अदालत से इसे खाली कराने के लिए आदेश पारित करने का आग्रह किया.

 

प्रदर्शनकारी पार्टियों का प्रतिनिधित्व कर रहे आवामी मुस्लिम लीग (एएमएल) के अध्यक्ष शेख राशिद ने अदालत को भरोसा दिलाया कि वे संसद और पाकिस्तान सचिवालय का इलाका खाली कराने के बारे में विस्तृत योजना के साथ आएंगे.

 

न्यायमूर्ति अनवर जहीर जमाली ने अटार्नी जनरल सलमान असलम को प्रदर्शन को दौरान हुई वित्तीय क्षति के मामले की सूची पेश करने का निर्देश दिया.

 

अदालत ने अपने आदेश में कहा कि राशिद प्रदर्शन कर रही पार्टियों से संसद परिसर को खाली कराने के लिए समझाएंगे और पार्टियों को गतिरोध खत्म कराने पर सुझाव कल (गुरुवार) तक सौंपने का निर्देश दिया.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Pakistan deadlock broken as PTI agrees to meet government team
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: agrees deadlock government meet Pakistan pti
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017