पाकिस्तान: दो आतंकवादियों को फैसलाबाद जेल में दी गई फांसी

By: | Last Updated: Friday, 19 December 2014 5:04 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में बुधवार को पेशावर के आर्मी स्कूल में हुए बड़े आतंकी हमले के बाद मौत की सजा पर से जो पाबंदी हटाई गई आज उसपर अमल करते हुए फैसलाबाद की सेंट्रल जेल में दो आतंकवादियों को फांसी दे दी गई है.

 

आतंकवादियों अकील उर्फ डॉक्टर उस्मान और अरशद महमूद को फैसलाबाद की जेल में शुक्रवार की देर शाम फांसी दी गई.

 

फैसलाबाद जेल के एक अधिकारी ने बीबीसी उर्दू को बताया कि ये पहला मौका है जब किसी को नमाज़-ए-ईशा यानी रात की नमाज़ के बाद फांसी दी गई है, अतीत में फांसी हमेशा फज्र यानी सुबह की नमाज़ के बाद दी जाती थी.

 

जेल अधिकारी के मुताबिक जेल की नियमवाली बदली गई जिसके तहत अब किसी भी दिन फांसी दी जा सकती है. इससे पहले मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को ही फांसी दी जाती थी.

 

आपको बता दें कि पेशावर के आर्मी स्कूल के हमले में तालिबान के आतंकवादियों ने 132 स्कूली बच्चों सहित 141 लोगों की हत्या कर दी थी जिसके बाद प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने पाकिस्तान में फांसी की सजा पर लगी पाबंदी हटा ली थी. फांसी की सजा पर पाबंदी हटाए जाने के बाद ये पहली फांसी है.

 

जैसे ही नवाज़ शरीफ की तरफ से फांसी पर से पाबंदी हटाई गई, पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल राहील शरीफ ने कोर्ट मार्शल में सजा-ए-मौत पाने वाले छह आतंकवादियों की मौत की सजा पर मंजूरी दे दी थी.

 

ऐसे माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कम से कम चार और आतंकियों को फांसी दी जा सकती है.

 

कौन था उस्मान और अरशद

 

उस्मान पाकिस्तान की आर्मी के मेडिकल कोर का सदस्य था और वो साल 2009 में रावलपिंडी स्थित पाकिस्तान आर्मी के मुख्यालय पर हमले का दोषी था. जबकि अरशद महमूद पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ पर जानलेवा हमले का दोषी था.

 

फांसी देने से पहले और बाद में फैसलाबाद की सेंट्रल जेल और जिला जेल की सुरक्षा बढ़ा दी गई.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Pakistan hangs terrorist
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017