पेरिस समझौते ने ‘समानता की दृष्टि’ के साथ तय किया जलवायु लक्ष्य: भारत

By: | Last Updated: Wednesday, 16 December 2015 1:14 PM
Paris Deal Frames Climate Change in ‘Lens of Equity’: India

संयुक्त राष्ट्र: पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौते को जलवायु न्याय के लिए जीत करार देते हुए भारत ने कहा है कि यह बहुपक्षीय समझौता विकासशील देशों के विकास संबंधी जरूरतों को संरक्षण प्रदान करता है और जलवायु महत्वाकांक्षा ‘समानता की दृष्टि’ के साथ तय की गई है.

 

हाल ही में पेरिस में संपन्न हुए जलवायु सम्मेलन के मुद्दे पर महासभा के अध्यक्ष द्वारा कल बुलाई गई संक्षिप्त बैठक में भारत के स्थायी उप प्रतिनिधि राजदूत भगवंत बिश्नोई ने कहा, ‘‘भारत पेरिस में सीओपी-21 के परिणामों से खुश है. जैसा कि हमारे प्रधानमंत्री :नरेंद्र मोदी: ने कहा कि हम सभी पेरिस के नतीजों में विजेता हैं. जलवायु न्याय की जीत हुई है और नया समझौता एक हरित भविष्य की दिशा में सभी देशों के नए साझा कदम को रेखांकित करता है.’’

 

बिश्नोई ने कहा कि भारत ने पेरिस सम्मेलन में खुलेपन, रचनात्मकता और लचीलेपन की भावना के साथ शिरकत की थी और भारत की आवाज विकासशील देशों की आवाज थी.

 

उन्होंने कहा, ‘‘जलवायु न्याय के लिए हमारी अपील समानता, ऐतिहासिक जिम्मेदारियों और विश्व के गरीब देशों के विकास के अधिकारों पर केंद्रित थी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम खुश हैं कि पेरिस समझौता भारत और अन्य विकासशील देशों के विकास संबंधी जरूरतों को रेखांकित एवं संरक्षित करते हुए जलवायु महत्वाकांक्षा का सृजन समानता की दृष्टि के साथ करता है.’’

 

समझौते को निष्पक्ष रूप से जलवायु न्याय की अनिवार्यता रेखांकित करने वाला बताते हुए बिश्नोई ने कहा कि यह समझौता समानता एवं साझा लेकिन भिन्न जिम्मेदारियों के सिद्धांतों पर आधारित है.

 

उन्होंने फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद, जलवायु दूत लॉरेंस ट्यूबिंग और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा, ‘‘हम इस बात से भी खुश हैं कि इस समझौते में विकसित एवं विकासशील देशों की पहलों के बीच अंतर रखा गया है.’’

 

बिश्नोई ने कहा, ‘‘पेरिस समझौते ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए हमारे साझा प्रयासों को एक नई उम्मीद और दिशा दी है. पेरिस में आयोजित हुए सीओपी-21 ने बहुपक्षीयता के नाम रहे इस वर्ष में एक उत्कर्ष का सृजन किया है.’’

 

उन्होंने कहा कि पेरिस समझौता 2030 विकास एजेंडे के अनुरूप है और यदि इन दोनों को एकसाथ लिया जाए तो दोनों के परिणाम धरती की सेहत की सुरक्षा के लिए और सभी लोगों के लिए सम्मानजनक जीवन सुनिश्चित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग की एक नई शुरूआत को रेखांकित करते हैं.

 

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून ने पेरिस समझौते को ‘‘धरती के लिए एक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी’’ करार दिया है.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Paris Deal Frames Climate Change in ‘Lens of Equity’: India
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Climate Change Summit India paris
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017