फिल्मी स्टाइल में आतंकियों को पकड़ने की कोशिश

By: | Last Updated: Friday, 9 January 2015 2:47 PM
paris operation

नई दिल्ली: बुधवार को फ्रांस की मशहूर पत्रिका शार्ली एब्दो के दफ्तर पर दो आतंकी भाइय़ों ने हमला किया था. 10 पत्रकारों समेत 12 लोग मारे गए. लेकिन 50 घंटे से ज्यादा वक्त बीतने के बाद भी पुलिस दोनों आतंकियों को पकड़ नहीं पाई है. वे दोनों एक गोदाम में छिपे हुए हैं और पुलिस के साथ किसी भी तरह की बातचीत से इंकार कर दिया है.

 

जमीन पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी. आसमान में हर कोने से हो चुकी थी नाकेबंदी. दो आतंकियों को पकड़ने के लिए 80 हजार पुलिसकर्मियों को ड्यूटी पर लगाया गया था. आतंकियों को पकड़ने की कोशिशों का ये पूरा ड्रामा किसी फिल्म से कम नहीं था.

 

एन ऑपरेशन इन पेरिस

LIVE: पूर्वी पेरिस में फायरिंग में दो की मौत  पूरा अपडेट कब क्या हुआ

शरीफ काउशी और सैयद काउशी दोनों भाइय़ों ने बुधवार के दिन फ्रांस की मशहूर पत्रिका शार्ली एब्दो के दफ्तर में 10 पत्रकारों गोलियों से भून दिया था. हमले को अंजाम देने के दो दिन बाद तक आतंकी हर मोर्चे पर पुलिस को चकमा देकर भाग रहे थे और पुलिस को सुराग मिलने के बावजूद वो आतंकियों को पकड़ नहीं पा रही थी

 

लुका छिपा का ये खेल शुक्रवार सुबह भी जारी रहा. सबसे पहले खबर मिली की आतंकियों ने नेशनल हाइवे पर मौनतागनी के पास एक महिला की कार हाइजैक कर ली. ठंड और घने कोहरे के बीच हाइवे पर पुलिस की 20 गाड़ियां आतंकियों की कार का पीछा करते देखी गई. कई घंटों तक पुलिस को अपने पीछे दौड़ाते रहे आतंकी.

 

कई घंटो के बाद पेरिस शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर और एयरपोर्ट के पास यहां इस दामारतिन ओ गोएल इलाके में वो व्यावसायिक इमारत में जाकर छिप गए. दोनों भाइयों ने अपने साथ एक महिला को बंधक बना रखा था. और उनके पास भारी मात्रा में हथियार भी मौजूद थे.

 

यहां से पेरिस का अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट द गाल सिर्फ 12 किलोमीटर दूर है एयरपोर्ट नजदीक होने की वजह से लैंडिंग वाले दो रनवे बंद कर दिए गए. पास में जो स्कूल था उसे भी बंद कर दिया गया. फ्रांस सरकार के वार्ताकारों ने फोन के जरिये हमलावारों से संपर्क साधा था लेकिन बातचीत में आतंकी झुकने को तैयार नहीं हुए. उन्होंने साफ कह दिया कि वो शहीद हो जाएंगे लेकिन सरेंडर नहीं करेंगे.

 

डेली मेल में छपी खबर के मुताबिक आतंकी जब छिपने के लिए इस इमारत में दाखिल हो रहे थे तो एक सेल्समैन ने एक आतंकी को पुलिसकर्मी समझते हुए उससे हाथ मिलाया. क्योंकि वह काले कपड़ों में होने के साथ-साथ हथियारों से लैस था. आतंकी ने उससे कहा जाओ हम सिविलियन को नहीं मारते.

 

आसपास के इलाके में रहने वाले तमाम लोगों को घर के अंदर रहने की हिदायत दी गई. पूरे इलाके को पुलिस ने छावनी में बदल दिया.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: paris operation
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: paris
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017