पीरियड की तस्वीर हटाने पर इंस्टाग्राम ने मांगी माफी

By: | Last Updated: Wednesday, 1 April 2015 3:09 PM

नई दिल्ली: आमतौर पर हमारे समाज में माहवारी यानि पीरियड पर बात करना मना है. लड़कियां ‘सैनेट्री पैड’ को ऐसे छुपा कर रखती हैं जैसे कोई हथियार छुपाया जाता है.

 

अगर आप मेडिसीन की दुकान पर उनसे ‘सैनेट्री पैड’ की मांग करेंगे तो दुकानदार काली पॉलीथीन में उसे छुपाकर देगा. पता नहीं समाज में लोगों को कब समझ में आयेगा कि पीरियड आना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है और इसे छिपाने से महिलाओं को आये दिन कई तरह के दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

 

गौरतलब है कि समाज में माहवारी को अपवित्र भी माना जाता है. बड़ा सवाल यह है कि जो प्रक्रिया प्रकृति की देन है वह अपवित्र कैसे हो सकती है? ऐसे ही विकृत सोच को तोड़ने के लिए महिलाओं ने कई कदम उठाए हैं.

 

इन्ही महिलाओं में से एक है कनाडा में रहने वाली भारतीय मूल की रूपी कौर. दरअसल रूपी कौर ने फोटो शेयरिंग साइट् इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर शेयर की थी. इस तस्वीर में वह लेटी हुईं हैं और उनके कपड़ों पर लगे खून से अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह माहवारी यानि पीरियड से गुजर रही हैं.

 

इस तस्वीर को फोटो शेयरिंग साइट पर शेयर करने के बाद इंस्टाग्राम ने यह कहते हुए तस्वीर को अकाउंट से हटा दिया कि यह फोटो ‘कम्यूनिटी गाइडलाइन’ के खिलाफ है.

 

रूपी कौर इंस्टाग्राम के इस फैसले से  हैरान रह गईं. उन्होनें एक बार फिर जानबूझकर यह तस्वीर अपने अकाउंट पर शेयर की.

 

दोबारा तस्वीर को शेयर करते वक्त रूपी ने लिखा, “न तो यह तस्वीर किसी ग्रुप की भावना को ठेस पहुंचाती है और न ही यह पोर्नोग्राफी को बढ़ावा देती है. यह कोई स्पैम भी नहीं है, यह मेरी खुद की तस्वीर है.” बावजूद इसके इंस्टाग्राम ने उनके द्वारा दोबारा पोस्ट किए गए तस्वीर को भी अकाउंट से हटा दिया.

 

अब बीबीसी में छपी एक खबर के मुताबिक रूपी ने इंस्टाग्राम के खिलाफ अदालत जाने का फैसला किया. अदालत ने रूपी के पक्ष में फैसला सुनाया है. इतना ही नहीं इंस्टाग्राम ने तस्वीर हटाने के लिए रूपी से माफी भी मांगी है.

 

रूपी के इस साहसिक कदम के बाद दुनिया भर में इसपर बहस शुरू हो गई है कि आखिर कब तक माहवारी जैसे प्राकृतिक चीज को अपवित्र माना जाएगा.

 

आपको बता दें कि हाल ही में दिल्ली स्थित सेंट्रल यूनिवर्सिटी जामिया मिल्लिया इस्लामिया में कुछ छात्रों को कारण बताओ नोटिस इसलिए जारी किया गया क्योंकि ये छात्र सैनेट्री पैड पर संदेश लिखकर माहवारी पर लोगों को जागरूक कर रहे थे.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Period_Rupi Kaur_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: periods Rupi Kaur
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017