खुलासा: पुतिन ने लंदन में कराई थी अपने ही जासूस की हत्या!

By: | Last Updated: Thursday, 21 January 2016 9:49 PM
Vladimir Putin Probably ‘Approved’ Ex Spy’s Assassination

लंदन: ब्रिटिश सरकारी जांच से आज खुलासा हुआ कि संभवत: रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने ही पूर्व केजीबी एजेंट एलेक्जेंडर लित्विनेंको की हत्या की अनुमति दी जिनकी नवंबर, 2006 में यहां एक अस्पताल में रेडियोधर्मी विषाक्तता से मौत हो गयी. इस जांच रिपोर्ट के बाद ब्रिटेन एवं रूस के बीच राजनयिक विवाद पैदा हो गया है.

आपको बता दें कि रूसी खुफिया एजेंसी केजीबी के पूर्व एजेंट लित्विनेंको की 2006 में लंदन के प्लस मिलेनियम होटल में संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी. फॉरेंसिक जांच में पता चला था कि लित्विनेंको की चाय में पोलोनियम-210 नाम का रेडियो एक्टिव जहर मिलाई गया था.

कई साल तक चली जांच के बाद अब ब्रिटिश जांच आयोग ने खुलासा किया है कि लित्विनेंको की हत्या को ‘शायद’ राष्ट्रपति पुतिन ने मंज़ूरी थी क्योंकि लित्विनेंको पुतिन के घोर आलोचक थे और उनसे पुतिन की बनती नहीं थी. पुतिन की वजह से लित्विनेंको को रूस छोड़ना पड़ा था.

रेडियोधर्मी पोलोनियम -210 दिये जाने के कुछ दिन बाद रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) या खुफिया पुलिस के 43 साल के पूर्व एजेंट लित्विनेंको की मौत हो गयी थी. माना जाता है कि उन्हें यह रेडियोधर्मी पदार्थ चाय में मिलाकर दिया गया था. हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश रोबर्ट ओवेन की 328 पन्नों की रिपोर्ट का निष्कर्ष है कि लिटविनेंको की मौत का क्रेमलिन के शीषर्तम स्तरों से ठोस संबंध है.

लिटविनेंको ने यहां के अस्पताल में मौत से पहले स्काटलैंड यार्ड को संकेत दिया था कि रूसी राष्ट्रपति ने ही उनकी मौत का आदेश दिया. दो रूसियों- एंड्री लुगोवोई और दमित्री कोवटुन पर लिटविनेंको की हत्या का आरोप है. उन्होंने उनकी हत्या से इनकार किया है. जांच में यह खुलासा हुआ कि इस बात की प्रबल संभावना है कि वे रूसी एफएसबी खुफिया सेवा की शह पर काम कर रहे थे.

ओवेन ने कहा कि अदालत में रखे गए खुले सबूतों से इस बात का दृढ़ परिस्थितिजन्य मामला बनता है कि रूस इस हत्या के पीछे था.

लेकिन विशाल मात्रा में गोपनीय खुफिया सबूतों समेत सारे सबूतों से वह इस निष्कर्ष पर भी पहुंचे कि लिटविनंेको की हत्या के अभियान को संभवत: (निकोलाई) पातृशेव (2006 में इस सुरक्षा सेवा के प्रमुख) और राष्ट्रपति पुतिन ने भी मंजूरी दी. अपनी हत्या के समय लिटविनेंको ब्रिटिश खुफिया सेवा एम आई 16 और स्पेनिश खुफिया एजेंसी के लिए भी काम कर रहे थे और रूसी संगठित अपराध नेटवर्कों एवं क्रेमलिन के साथ उनके संबंधों के बारे में सूचनाएं पहुंचा रहे थे. वह शीघ्र ही कई सुनवाइयों में अहम गवाह बनने वाले थे.

ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि डाउनिंग स्ट्रीट निष्कर्षों को बहुत ही गंभीरता से ले रहा है और प्रधानमंत्री ने उन्हें बहुत ही परेशानी में डालने वाला पाया है.

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘यह निष्कर्ष कि इस हत्या के लिए रूस में शीषर्तम स्तर पर मंजूरी दी गयी थी, बहुत ही परेशानी में डालने वाला है. यह किसी भी देश के लिए, चाहे वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य ही क्यों न हो, बर्ताव का तरीका नहीं है. अफसोस है कि हम या पिछली सरकार जो विश्वास करती थी, ये निष्कर्ष उसी की पुष्टि करते हैं. ’’ उन्होंने कहा कि वर्ष 2007 में रूस के विरूद्ध उठाए गए कदम तो बने हुए हैं और ‘जांच के निष्कषरें के आलोक में हम इस पर विचार कर रहे हैं कि हमें और क्या कार्रवाई करनी चाहिए.’

उधर मास्को में रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जाखारोवा ने कहा, ‘‘हमें अफसोस है कि एक विशुद्ध आपराधिक मामले का राजनीतिकरण किया गया और द्विपक्षीय संबंधों के माहौल पर काली छाया पड़ने दी गयी. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास यह उम्मीद करने का कोई कारण नहीं था कि राजनीतिक रूप से प्रेरित और बिल्कुल ही गैर पारदर्शी प्रक्रिया, जिसमें पूर्व निर्धारित और जरूरत वाले नतीजे के लिए छेड़छाड़ की गयी, के अंतिम निष्कर्ष अचानक वस्तुनिष्ट और निष्पक्ष हो.’’ ब्रिटेन की गृह मंत्री थेरेसा ने इस निष्कर्ष पर आज हाउस ऑफ कामंस में कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय कानून का खुला और अस्वीकार्य उल्लंघन है.

उन्होंने कहा, ‘‘यह निष्कर्ष कि संभवत: रूस लित्विनेंको की हत्या में शामिल था, बिल्कुल परेशानी में डालने वाला है.’’ उन्होंने कहा कि दो हत्यारों को न्याय के कठघरे में लाने में रूस की निरंतर विफलता अस्वीकार्य है तथा इन दोनों के लिए इंटरपोल नोटिस एवं यूरोपीय गिरफ्तारी वारंट यथावत हैं.

लित्विनेंको की विधवा मैरीना ने इस रिपोर्ट के दृढ़ निष्कषरें का स्वागत किया और ब्रिटेन से रूस पर प्रतिबंध लगाने की मांग की. लेकिन उन्होंने एक बयान में कहा कि उन्हें संकेत मिला है कि ब्रिटेन कुछ करेगा नहीं. इस हत्या में उपयोग में लाया गया रेडियोधर्मी समस्थानिक पोलोनियम 210 बहुत ही जहरीला है और हत्यारों ने लंदन में कई स्थानों पर उसके अंश छोड़ दिए थे तब इससे जनस्वास्थ्य का गंभीर खतरा पैदा हो गया था.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Vladimir Putin Probably ‘Approved’ Ex Spy’s Assassination
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: assassination Ex Spy Vladimir Putin
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017