चीनी दूतावास ने लगाई वाशिंगटन पोस्ट को फटकार

By: | Last Updated: Saturday, 1 August 2015 7:01 AM
Washington Post

बीजिंग: अमेरिका स्थित चीनी दूतावास ने वाशिंगटन के खिलाफ हुए कथित साइबर हमलों को लेकर बीजिंग पर अनुचित आरोप लगाने के लिए समाचार पत्र ‘वाशिंगटन पोस्ट’ को फटकार लगाई है. दूतावास ने इस तरह के कदमों को नुकसानदायक करार दिया है.

 

चीन दूतावास के प्रवक्ता झू हैक्वान ने वाशिंगटन पोस्ट के संपादकों को लिखे एक पत्र में कहा है कि समाचार पत्र में हाल में प्रकाशित कई लेखों और संपादकीय में -जिनमें 22 जुलाई को प्रकाशित ‘यूएस नॉट नेमिंग चाइना इन डेटा हैक’ और 12 जुलाई को प्रकाशित ‘द साइबर डिफेंस क्राइसिस’ नामक समाचार रिपोर्ट शामिल हैं- वाशिंगटन पोस्ट ने अनुचित तरीके से अमेरिका में साइबर हमलों के लिए चीन सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

 

झू ने कहा, “चीन सरकार हर तरह के साइबर हमलों के खिलाफ है और इस तरह के हमलों से अपने नियमों-कानूनों के अनुसार दृढ़ता से निपटती है.” पत्र में यह भी कहा गया है कि चीन स्वयं दुनिया में साइबर हमलों के प्रमुख पीड़ितों में से एक है, जिनमें से कई हमले अमेरिका से किए जाते हैं.

 

झू ने कहा कि उदाहरण स्वरूप, चीन के नेशनल कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टेक्निकल टीम कॉर्डिनेटर सेंटर के मुताबिक, अमेरिका में मौजूद 2,077 ट्रोजन हॉर्स नेटवर्को या बोटनेट सर्वर ने 19 मार्च, 2014 से 18 मई, 2014 तक सीधे तौर पर चीन के 11.8 लाख कंप्यूटरों पर अपना नियंत्रण बनाए रखा और अमेरिका में मौजूद 135 कंप्यूटरों ने चीन की वेबसाइटों को हैक किया गया.

 

झू के मुताबिक, “सीमापार के साइबर हमले अधिक जटिल होते हैं और इनका पता लगाना बहुत मुश्किल होता है. इस तरह की गतिविधियों से निपटने के लिए घनिष्ठ अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की जरूरत है और यहीं पर चीन और अमेरिका के हित समान है.” उन्होंने कहा कि एक-दूसरे पर दोषारोपण करने से बेहतर है कि दोनों देश मिलकर इसका सामना करें.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Washington Post
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: America China Washington Post
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017