कश्मीरी अलगाववादियों से बात जारी रखेंगे: पाकिस्तान

By: | Last Updated: Thursday, 15 October 2015 2:14 PM

संयुक्त राष्ट्र/नई दिल्ली: पाकिस्तान ने कहा है कि भारत से बातचीत करने के लिए वह कश्मीरी अलगाववादियों से बातचीत बंद नहीं करेगा. संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की तरफ से कही गई इस बात को भारत ने तुंरत खारिज कर दिया.

 

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने कहा कि कश्मीर मामले का शांतिपूर्ण हल के लिए कश्मीरी अलगाववादियों से बातचीत बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा, ” भारत के साथ बातचीत के लिए अलगाव वादियों से सलाह-मशविरे को रोकने की शर्त न केवल अस्वीकार्य है बल्कि यह उल्टे नतीजे देने वाली भी है.”

 

भारतीय राजनयिक अभिषेक सिंह ने पाकिस्तान की इस बात को खारिज करते हुए इसे भारत के अंदरूनी मामले में दखलंदाजी बताया.

 

लोधी ने पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ द्वारा सुझाए गए चार सूत्री शांति फार्मूले को दोहराया. उन्होंने कहा कि भले ही भारत से सकारात्मक प्रतिक्रिया न मिल रही हो लेकिन फिर भी “पाकिस्तान सभी मुद्दों पर बात करने के लिए तैयार है.”

 

भारत के संयुक्त राष्ट्र मिशन के पहले सचिव अभिषेक सिंह ने महासभा में लोधी के प्रस्ताव को खारिज कर दिया. उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के जवाब को दोहराया, “हम चार सूत्र नहीं चाहते. हम सिर्फ एक सूत्र चाहते हैं-आतंकवाद छोड़ दो और फिर हम बैठकर बात करते हैं.”

 

सिंह ने याद दिलाया कि स्वराज ने कहा था, “भारत बातचीत चाहता है. लेकिन, बातचीत और आतंकवाद एक साथ नहीं हो सकते.”

 

सुषमा ने कहा था कि पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) स्तर की बातचीत में आतंकवाद पर चर्चा करते हैं. अगर इस चर्चा का सकारात्मक नतीजा निकला तो फिर सभी मुद्दों पर द्विपक्षीय बात के लिए भारत तैयार है.

 

भारत-पाकिस्तान की एनएसए स्तर की बात इसलिए नहीं हो सकी थी क्योंकि पाकिस्तान बातचीत से पहले कश्मीरी अलगाववादियों से मिलने पर अड़ गया था.

 

शरीफ के चार सूत्री फार्मूले में ताकत के इस्तेमाल की बात न करने, कश्मीर से सेना हटाने , सियाचिन ग्लेशियर से सेना हटाने और नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम को औपचारिक रूप देना शामिल है.

 

लोधी ने कश्मीर मुद्दे पर कहा कि बजाए जनमत संग्रह कराने के “कश्मीर के लिए लोगों पर भीषण अत्याचार किया जा रहा है.” उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा पर बढ़ते तनाव को खत्म करने की जरूरत है.

 

संयुक्त राष्ट्र के काम से संबद्ध रिपोर्ट पर मलीहा लोधी के भाषण के बाद संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि अशोक कुमार मुखर्जी ने अपनी बात रखी. उन्होंने कहा, “यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि पाकिस्तान की सम्मानित प्रतिनिधि ने उस मुद्दे को उठाया जिसका आज की बहस से कोई लेना-देना ही नहीं है.”

 

उन्होंने कहा, “हमारे बीच राजनयिक संबंध है. इस तरह के मुद्दे इसी संबंध के दायरे में उठने चाहिए न कि कहीं और.”

 

जवाब देने के हक का इस्तेमाल करते हुए अभिषेक सिंह ने कहा, “ये बातें इसलिए और भी विचित्र हो जाती हैं कि इन्हें एक ऐसा देश कह रहा है जिसने भारत के जम्मू एवं कश्मीर के एक भाग पर अवैध कब्जा कर रखा है. इस तरह की बातें भारत के अंदरूनी मामलों में दखलंदाजी है. इसलिए हम इन्हें खारिज करते हैं.”

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: We will continue to talk with separatists: Pakistan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: India Kashmir Pakistan Separatist leader
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017